श्रीनगर, जेएनएन। श्रीनगर में अमीराकदल पुल के पास गनी खान इलाके (इसे हरि सिंह हाई स्ट्रीट भी कहा जाता है) में संदिग्ध आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाते हुए ग्रेनेड हमला किया, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गइ है जबकि 38 के करीब घायल हुए हैं। मृतक की पहचान रिंकू सिंह निवासी सहारनपुर, उत्तर प्रदेश के तौर पर हुई है। घायलों में तीन एसएसबी के जवान भी शामिल हैं। पुलिस व स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को एसएमएचएस अस्पताल ले जाया गया है। इनमें चार लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। हमले के तुरंत बाद ही सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर आतंकियों की तलाश में ऑपरेशन चलाया हुआ है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, आतंकियों ने यह हमला करीब अपरान्ह 1.20 बजे किया। अति व्यस्त बाजार होने के कारण यहां लोगों की काफी भीड़ थी। लोग सब्जी व फल आदि की खरीददारी कर रहे थे। यहां काफी संख्या में रेहड़ियां लगी रहती हैं। शरारती तत्व यहां बने शांति के माहौल में बाधा उत्पन्न न करे इसी वजह से यहां सुरक्षाबलों की अच्छी-खासी संख्या में तैनाती रहती है। लोगों का कहना है कि आतंकियों ने ग्रेनेड सुरक्षाबलों पर फेंका था। बाजार में लोगों की भीड़ होने के कारण सुरक्षाबलों के साथ-साथ आम लोग भी इसका निशाना बन गए।

घायलों में शामिल एक व्यक्ति की मौत हो गइ है। यह मृतक कश्मीर का रहने वाला नहीं है। इसकी पहचान रिंकू सिंह निवासी सहारनपुर, उत्तर प्रदेश का बताया जा रहा है। अन्य घायलों में भी चार की हालत काफी गंभीर बताइ जा रही है। इनमें से अभी तक दो की ही पहचान एजाज और फैयाज अहमद के तौर पर हुइ है। उन्हें बेहतर उपचार के लिए श्रीनगर के सोरा अस्पताल में रेफर किया गया है। घायलों में एसएसबी के तीन जवान भी शामिल हैं। हालांकि अभी तक अधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं की गई है। आतंकियों की तलाश के लिए सुरक्षाबलों ने अभियान चलाया परंतु सफलता हाथ नहीं लग पार्इ।

#CCTV The moment when terrorists threw a grenade in a market on Maulana Azad road in Srinagar earlier today. 15 people were injured in the attack. #JammuAndKashmir pic.twitter.com/V0Hy0OTICi

— ANI (@ANI) November 4, 2019

एक महीने में यह छह ग्रेनेड हमला

कश्मीर में सामान्य होते हालात से हताश आतंकियों का यह घाटी में पांचवां ग्रेनेड हमला है। इससे पहले आतंकियों ने 29 अक्टूबर को पुलवामा के द्रबगाम में स्थित परीक्षा केंद्र के बाहर तैनात सुरक्षाबलों को निशाना बनाते हुए ग्रेनेड फेंका था। इस हमले में कोई भी हताहत नहीं हुआ था। हालांकि उससे एक दिन पहले 28 अक्टूबर को आतंकियों ने बस स्टेंड के नजदीक बाजार में ग्रेनेड फेंका था। इस हमले में 19 लोग घाायल हो गए थे। इससे दो दिन पहले 26 अक्टूबर को श्रीनगर के ही काकसराय में आतंकी सीआरपीएफ के गश्ती दल पर ग्रेनेड फेंक कर फरार हो गए थे। इसमें सीआरपीएफ के छह जवान घायल हो गए थे। 24 अक्टूबर को आतंकियों ने कुलगाम में भी सीआरपीएफ कैंप के बाहर सुरक्षा में तैनात जवानों को निशाना बनाते हुए ग्रेनेड फेंका, जिसमें एक जवान घायल हो गया था।

हरि सिंह हाई स्ट्रीट को आतंकी पहले भी बना चुके हैं निशाना

जिस जगह आतंकियों ने आज ग्रेनेड हमला किया है, वहां पहले भी वे ग्रेनेड फेंक चुके हैं। 5 अक्तूबर को श्रीनगर के हरि सिंह हाई स्ट्रीट के पास आतंकियों ने भीड़भाड़ वाले इलाके में ग्रेनेड फेंका था। इस हमले में 14 लोग घायल हो गए थे। घायलों में महिलाएं व बच्चे भी शामिल थे। दरअसल आतंकवादी संगठन कश्मीर में दुकानें खोलने का विरोध करते आ रहे हैं। कई दुकानदार व रेहड़ी वाले उनकी धमकियों को नजरंदाज कर नियमित तौर पर बाजार खोल रहे हैं। शांति के इस माहौल को बिगाड़ने के लिए ही आतंकी संगठन इस तरह के ग्रेनेड हमले कर रहे हैं, ताकि लोगों में दहशत व्याप्त हो और वे उनकी धमकियों को हल्के में न लें।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप