हैदराबाद, पीटीआइ। भारत बायोटेक ने 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में उपयोग के लिए COVID-19 वैक्सीन, Covaxin के चरण 2/3 परीक्षणों को पूरा कर लिया है और अगले सप्ताह तक इसके डेटा को DCGI को सौंप दिए जाने की उम्मीद है। भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने मंगलवार को यहां यह बात कही।

पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि कोवैक्सीन का उत्पादन अक्टूबर में 5.5 करोड़ खुराक तक पहुंच जाएगा, जबकि सितंबर में यह 3.5 करोड़ था। उन्होंने यह भी कहा कि COVID-19 के खिलाफ फर्म के इंट्रानैसल वैक्सीन के चरण 2 के परीक्षण अगले महीने तक समाप्त होने की उम्मीद है।

एला ने कहा, 'बाल चिकित्सा कोवैक्सीन ने अभी चरण 2/3 परीक्षण पूरा किया है। आंकड़ों का विश्लेषण चल रहा है। हम अगले सप्ताह तक डेटा (नियामक को) जमा कर देंगे। विषयों (स्वयंसेवकों) की संख्या 1000 को छू रही है।'

उन्होंने कहा कि लगभग 650 स्वयंसेवकों पर परीक्षण किए जाएंगे। कोवैक्सीन के उत्पादन पर, एला ने कहा कि प्रति माह 100 मिलियन खुराक संभव हो सकती है यदि अन्य विनिर्माण भागीदार सुरक्षा के साथ पूरी तरह से तैयार हैं। अपनी खुद की सुविधाओं के अलावा, भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन के निर्माण के लिए इंडियन इम्यूनोलाजिक्स और हेस्टर बायोसाइंसेज के साथ करार किया है।

अन्य देशों को कोवैक्सीन के निर्यात पर, एला ने कहा कि यदि केंद्र अनुमति देता है, तो फर्म डोज निर्यात करने के लिए तैयार है, हालांकि फर्म विदेशी बाजारों के लिए जल्दी नहीं कर रही है। उनके मुताबिक सरकार का फोकस घरेलू जरूरतों को पूरा करने पर है।

वहीं, भारत 'वैक्सीन मैत्री' कार्यक्रम के तहत और COVAX वैश्विक पूल के लिए अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए 2021 की चौथी तिमाही में अधिशेष कोविड -19 टीकों का निर्यात फिर से शुरू करेगा, लेकिन अपने स्वयं के नागरिकों का टीकाकरण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता बनी हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने सोमवार को इस बात की जानकारी दी।

Edited By: Nitin Arora

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट