नई दिल्ली। देश के नए रेल मंत्री का कार्यभार संभालने के बाद सुरेश प्रभु ने कहा कि रेल यात्रियों की सुरक्षा और उनकी संतुष्टि हमारी प्राथमिकता होगी।

प्रभु ने यहां बातचीत में कहा कि पूर्व में रेलवे को चलाने में हमने बहुत सारी चुनौतियों का सामना किया है। हमने अपनी क्षमता का सही तरह से उपयोग नहीं किया है इसलिए रेलवे की स्थिति आज बदतर है।

प्रभु शिवसेना से भाजपा में शामिल होने के बाद रविवार को कैबिनेट मंत्री बनाए गए हैं और उन्हें रेलवे जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया है। उन्होंने कैबिनेट में फेरबदल के तहत कानून मंत्री बनाए गए सदानंद गौड़ा का स्थान लिया है।

सुरेश प्रभु ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फैसला किया है कि रेलवे की हालत में बदलाव हो...हमारा सबसे ज्यादा फोकस ग्राहक सेवा और यात्रियों की सुरक्षा पर रहेगा।

उन्होंने कहा कि लोगों ने इस सरकार पर अपना भरोसा जताया है। इसलिए हम लोगों की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। रेलवे में व्यापक बदलाव के लिए हमें जो भी सुधारवादी कदम उठाने पड़े, हम उठाएंगे।

रेल मंत्री ने कहा कि देश अर्थवस्था रेलवे पर भी निर्भर है। रेलवे हमारी अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने का महत्वपूर्ण कारक है और यदि हम इस दिशा में काम करें तो निश्चित रूप में विकास दर में बढ़ोतरी कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि देश के सबसे बड़े सार्वजनिक परिवाहक रेलवे पास सबसे ज्यादा कार्यबल है। इसलिए इसे चुस्त-दुरुस्त करना बेहद जरूरी है।

Posted By: Sanjay Bhardwaj