नई दिल्ली, एएनआइ। कोरोना संक्रमण के प्रोटोकाल के चलते इस साल नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी) के कमांडो गणतंत्र दिवस परेड में कंधे से कंधा मिलाकर नहीं चलेंगे। यह कमांडो परेड के लिए दिन-रात अभ्यास कर रहे हैं। भारत के आतंकवाद रोधी अभियानों के लिए एलीट ग्रुप एनएसजी कमांडो ने फैसला किया है कि इस साल कोरोना संक्रमण के चलते इसके प्रोटोकाल का पालन किया जाएगा। इसलिए एनएसजी कमांडो परेड में एक-दूसरे से 1.5 मीटर से अधिक दूरी पर मार्च करेंगे। इससे पहले वह राजपथ पर कंधे से कंधा मिलाकर चलते थे। परेड में कुछ दूरी से इस अंतर को देखा जा सकेगा।

इस दूरी को ध्यान में रखते हुए शारीरिक दूरी के नियमों का पालन किया जाएगा। पिछले साल के मुकाबले केवल चालीस फीसद जवान ही परेड में हिस्सा लेंगे। गणतंत्र दिवस परेड में बिना किसी चूक के मार्च करने के लिए एनएसजी कमांडो हर दिन कम से कम पांच घंटे पसीना बहाते हैं। जिस समय हम सब बिस्तर से उठने की सोच रहे होते हैं, उस समय तक वह गणतंत्र दिवस परेड के लिए अपनी प्रैक्टिस पूरी कर चुके होते हैं। सेना के वरिष्ठ अफसरों और अर्धसैनिक बलों के साथ एनएसजी कमांडो राजपथ पर नियमित रूप से सुबह पांच बजे पहुंच जाते हैं और सुबह दस बजे तक परेड करते हैं।

बता दें कि 26 जनवरी 2021 को भारत का 72वां गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा। गणतंत्र दिवस के मौके पर गणतंत्र दिवस परेड की तैयारियां जोरों पर शुरू हो चुकी है। इस खास अवसर पर प्रत्येक वर्ष परेड भी निकाली जाती है। इस पेरड में थल, जल और वायु सेना के जवान शामिल होते हैं।

इसी परेड में हिस्सा लेने के लिए  राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) आज विजय चौक और राजपथ पर ड्रिल करते हुए भी थोड़े दिन पहले नजर आए थे। इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुए था। रिपोर्ट के मुताबिक, इस बार गणतंत्र दिवस की तैयारियां कोरोना वायरस की वजह से कुछ फींकी नजर आएगी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप