जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के निर्देश के बाद भी दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) व इलाहाबाद विश्वविद्यालय जैसे दर्जनभर से ज्यादा केंद्रीय विश्वविद्यालयों में अब तक शिक्षकों के खाली पद भरने की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है। यह स्थिति तब है, जब देश भर के केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ तीन सितंबर को वर्चुअल चर्चा में केंद्रीय शिक्षा मंत्री प्रधान ने एक हफ्ते के अंदर शिक्षकों के खाली पदों को भरने के लिए विज्ञापन प्रकाशित करने को कहा था। साथ ही 31 अक्टूबर 2021 तक भर्ती प्रक्रिया को पूरा करने के भी निर्देश दिए थे। संकेत हैं कि मंत्रालय ने विश्वविद्यालयों को फिर से याद दिलाया है और संभव है कि अगले हफ्ते तक सभी विश्वविद्यालय खाली पदों को भरने के लिए अपने विज्ञापन जारी कर देंगे।

मौजूदा समय में इनमें शिक्षकों के करीब 63 सौ पद खाली हैं। इनमें दिल्ली विश्वविद्यालय, इलाहाबाद विश्वविद्यालय जैसे कुछेक ऐसे विश्वविद्यालय भी हैं, जहां शिक्षकों के कुल स्वीकृत पदों के मुकाबले करीब आधे पद खाली हैं। मंत्रालय वैसे तो शिक्षकों के इन खाली पदों को भरने के लिए विश्वविद्यालयों को लगातार निर्देशित करता रहता है, लेकिन इस बार वह इसे मिशन मोड में भरना चाहता है, ताकि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अमल को उच्च शिक्षण संस्थानों में तेजी से गति दी जा सके। नीति में भी शिक्षकों के खाली पदों को प्रमुखता के साथ भरने की सिफारिश की गई है। सूत्रों के मुताबिक डीयू सहित कई केंद्रीय विश्वविद्यालयों में भर्ती प्रक्रिया इसलिए नहीं शुरू हो सकी है क्योंकि यहां अभी कोई पूर्णकालिक कुलपति नहीं है।

मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक उच्च शिक्षण संस्थानों में मौजूदा समय में शिक्षकों के औसतन करीब 34 फीसद पद खाली हैं। इनमें से अकेले केंद्रीय विश्वविद्यालयों में करीब 63 सौ पद खाली हैं। देश में मौजूदा समय में करीब 45 केंद्रीय विश्वविद्यालय है। फिलहाल जिन केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के सबसे ज्यादा पद खाली हैं, उनमें दिल्ली विश्वविद्यालय, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, हरी ¨सह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय सागर (मध्य प्रदेश), केंद्रीय विश्वविद्यालय उड़ीसा, केंद्रीय विश्वविद्यालय कश्मीर, केंद्रीय विश्वविद्यालय हरियाणा आदि हैं।

प्रमुख केंद्रीय विश्वविद्यालय में शिक्षकों के स्वीकृत और खाली पद

दिल्ली विवि-                                 1706 -  846

इलाहाबाद विवि -                           863 -    598

हरी सिंह गौर विवि, सागर-               413-    227

जेएनयू-                                        926-     308

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विवि - 478 - 211

सेंट्रल यूनिवर्सिटी उड़ीसा-              157-      137

सेंट्रल यूनिवर्सिटी हरियाणा-          266-      125

सेंट्रल यूनिवर्सिटी कश्मीर-            195-       114