नई दिल्‍ली (ऑनलाइन डेस्‍क)। अमेरिका में राष्‍ट्रपति जो बाइडन के पद संभालने के बाद से ही इन बातों को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि उनके कार्यकाल में पाकिस्‍तान और चीन को लेकर उनकी नीतियां अपने पूर्ववर्ती राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की तरह ही रहेंगी या इनमें कोई बदलाव देखने को मिलेगा। ऐसी कयासबाजी की वजह उनके वो बयान हैं, जो उन्‍होंने पद संभालने से पहले दिए थे। दरअसल, बाइडन ने पद संभालने से पहले पाकिस्‍तान को लेकर कहा था कि उसको आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए ठोस कार्रवाई करनी चाहिए। आपको यहां पर ये भी बता दें कि पूर्व राष्‍ट्रपति की नीतियां इस बारे में काफी अलग थीं और उन्‍होंने पाकिस्‍तान पर काफी आक्रामक रुख अपनाया था।

बाइडन की पाकिस्‍तान को लेकर भावी नीतियों के बारे में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के प्रोफेसर एके पाशा का कहना है कि उनकी इसको लेकर नीतियां पूर्व राष्‍ट्रपति से काफी कुछ लग होंगी। उनके मुताबिक, वो मानते हैं कि अफगानिस्‍तान में कदम बढ़ाने और तालिबान को कंट्रोल करने के लिए पाकिस्‍तान का साथ जरूरी है। ऐसे में पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के कार्यकाल में अमेरिका की पाकिस्‍तान से जो दूरियां बढ़ गई थीं, वो अब कम हो जाएंगी। अमेरिका का मानना है कि इस पूरे क्षेत्र में अपने लक्ष्‍यों की पूर्ति के लिए पाकिस्‍तान का सहयोग जरूरी है। प्रोफसर पाशा की मानें तो ट्रंप प्रशासन में पाकिस्‍तान के ऊपर जिस तरह की पाबंदियां लगी थीं उनको भी बाइडन प्रशासन में कम या खत्‍म किया जा सकता है।

आपको यहां पर बताना जरूरी होगा कि ओबामा प्रशासन में जिस वक्‍त बाइडन उप-राष्‍ट्रपति की भूमिका में थे तो दोनों देशों के बीच संबंध काफी बेहतर थे। उस वक्‍त पाकिस्‍तान को हर मोर्चे पर अमेरिका का साथ मिला था। इतना ही नहीं, उस वक्‍त में उप-राष्‍ट्रपति के तौर पर बाइडन ने पाकिस्‍तान की आधिकारिक यात्रा भी की थी। एक्‍सपर्ट मानते हैं कि यदि बाइडन की पॉलिसी भी पाकिस्‍तान को लेकर पहले की ही तरह रही तो ये क्षेत्र की स्थिरता के लिए सही नहीं होगा।

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप