जागरण संवाददाता, उदयपुर। भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा के समर्थन में इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट करने पर मंगलवार दोपहर रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने राजस्थान के उदयपुर में दिनदहाड़े कन्हैयालाल की बर्बरता से हत्या कर दी। दोनों ने टेलर कन्हैयालाल की दुकान में घुसकर धारदार हथियार से पहले उनके शरीर पर कई वार किए और फिर गर्दन काटकर मार डाला। दुस्साहस और वीभत्सता की पराकाष्ठा पार करते हुए हत्यारों ने घटना के बाद रक्त से सने हथियार दिखाकर हंसते हुए अपना एक वीडियो जारी किया।

दुस्साहस की हद

  • रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने दिनदहाड़े किया कन्हैयालाल का कत्‍ल
  • हत्या के बाद हंसते हुए वीडियो बनाया, एनआइए को आतंकी घटना का शक
  • वीडियो में हथियार लहराकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी समेत अन्य को भी दी धमकी
  • राजस्‍थान पुलिस ने राजसमंद से दोनों हत्यारों को किया गिरफ्तार
  • केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तत्काल एनआइए टीम को उदयपुर किया रवाना
  • गहलोत सरकार ने भी बनाई एसआइटी, पांच लाख रुपये मुआवजे का किया एलान
  • सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू, पूरे राजस्‍थान में एक दिन के लिए इंटरनेट सेवा बंद
  • पूरे प्रदेश में धारा-144 लागू, आदेश का सख्ती से पालन का निर्देश

पूरे प्रदेश में निषेधाज्ञा लागू, इंटरनेट बंद

इसमें अन्य लोगों को भी गला काटने की धमकी दी गई है। पुलिस ने दोनों को देर शाम राजसमंद से गिरफ्तार कर लिया। उदयपुर जिले के सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाने के साथ पूरे प्रदेश में एक माह तक निषेधाज्ञा के अंतर्गत तीन से अधिक लोगों के एकत्र होने पर रोक लगा दी गई है। यही नहीं पूरे प्रदेश में 24 घंटे के लिए इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है।

आतंकी घटना होने का शक

इस बीच, आइएएनएस की खबर के अनुसार राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) को इसके आतंकी घटना होने का शक है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एनआइए की एक टीम उदयपुर के लिए रवाना कर दी है।

सहायक निरीक्षक निलंबित, जांच के लिए एसआइटी गठित

प्रेट्र के अनुसार राजस्थान सरकार ने भी जांच के लिए स्पेशल आपरेशन ग्रुप के एडीशनल डायरेक्टर जनरल अशोक राठौर के नेतृत्व में एक विशेष जांच टीम (एसआइटी) बना दी है। इसमें एंटी टेरर स्क्वाड के महानिरीक्षक प्रफुल कुमार भी होंगे। गहलोत के अनुसार राज्य की केस आफिसर स्कीम के अंतर्गत घटना की जांच फास्ट ट्रैक की जाएगी। पुलिस के एक सहायक निरीक्षक को निलंबित किया गया है।

पांच लाख रुपये के मुआवजे का एलान

वहीं संभागीय आयुक्त राजेंद्र भट्ट ने कहा कि हम उदयपुर के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं... कन्हैयालाल के आश्रितों को यूआईटी में प्लेसमेंट सेवा के माध्यम से भर्ती का आश्वासन दिया गया है, परिवार को पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा...

बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात

वहीं वारदात के विरोध में लोगों ने प्रदर्शन किया और आरोपितों का पुतला जलाया। इस दौरान मुख्य बाजार बंद रहे। स्थानीय नागरिकों ने राज्य सरकार से कन्हैयालाल के स्वजन के लिए 50 लाख रुपये और सरकारी नौकरी की मांग की है। शहर में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

कपड़े सिलवाने के बहाने किया कत्ल

कन्हैयालाल तेली की उदयपुर की धानमंडी स्थित भूतमहल के पास सुप्रीम टेलर्स के नाम से दुकान है। मंगलवार दोपहर करीब ढाई बजे रियाज और गौस मोहम्मद बाइक पर सवार होकर दुकान पर पहुंचे। दोनों ने कपड़े सिलवाने के लिए नाप देने के बहाने दुकान में प्रवेश किया। कन्हैयालाल कुछ समझ पाते, उससे पहले हत्यारों ने उन पर हमला कर दिया।

हमलावरों ने बनाया वीडियो

हमलावरों ने हत्या का वीडियो भी बनाया और इंटरनेट मीडिया पर साझा किया। बताया जाता है कि दोनों दोस्त हैं और शहर की कच्ची बस्ती के रहने वाले हैं। रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद के हाथ में खून से सने हथियार देखकर आसपास के लोगों को घटना का पता चला। मौके पर भीड़ एकत्रित हो गई। पुलिस भी पहुंची। एफएसएल की टीम ने मौके से सुबूत जुटाए हैं।

पीएम मोदी को भी दी धमकी

कन्हैयालाल की हत्या करने के बाद हथियार लहराते हुए जारी किए गए वीडियो में रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी धमकी दी है। वीडियो में रियाज पीएम मोदी तक भी पहुंचने की बात कह रहा है।

सीएम की अपील- वीडियो वायरल न करें

घटना की जितनी निंदा की जाए, कम है। लोग घटना के वीडियो वायरल न करें। इससे अपराधी का समाज में घृणा फैलाने का उद्देश्य सफल होगा। अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा। -अशोक गहलोत, सीएम, राजस्थान

कमलेश तिवारी हत्‍याकांड की यादें हुई ताजा

इस घटना ने वर्ष 2019 में लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की जघन्य हत्या की याद दिला दी।

दुकानों के गिरे शटर, सड़क पर उतरे लोग

दहला देने वाली घटना के बाद उदयपुर के मुख्य बाजार बंद हो गए। स्थानीय नागरिकों ने राज्य सरकार से कन्हैयालाल के स्वजन के लिए 50 लाख रुपये और सरकारी नौकरी की मांग करते हुए पुलिस को शव नहीं उठाने दिया। बाद में वह अधिकारियों द्वारा आश्वासन देने पर राजी हुए। शहर में तनाव के हालात को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। शहर के हाथीपोल क्षेत्र में दो मोटरसाइकिलों को आग लगा दी गई जबकि धानमंडी में एक धार्मिक स्थल पर पथराव किया गया।

थाने में हुआ था समझौता

कुछ ही दिन पहले पुलिस ने इंटरनेट मीडिया पर एक पोस्ट के लिए कन्हैयालाल को गिरफ्तार किया था। जमानत पर रिहा हुए कन्हैयालाल ने 15 जून को पुलिस को बताया था कि उसे धमकियां मिल रही हैं। स्थानीय थानेदार ने दोनों पक्षों को बुलाकर समझौता करा दिया था। इसके बावजूद यह घटना हो गई। कन्हैयालाल उदयपुर शहर के गोवर्धन विलास क्षेत्र के रहने वाले थे। उनके तीन पुत्र रोहित, तरुण व गुड्डू हैं।

पुलिस ने हटा ली थी सुरक्षा

लगभग दस दिन पहले कन्हैयालाल के फोन से नुपुर के समर्थन में पोस्ट की गई थी, जिसके बाद से उनको धमकियां मिल रही थीं। नामजद शिकायत के बाद उनको पुलिस-प्रशासन से सुरक्षा मुहैया कराई थी, मगर छह दिन बाद हटा ली गई। धमकियों के चलते वह दुकान नहीं खोल पा रहे थे। मंगलवार को वह बिना सुरक्षा के ही दुकान खोलने पहुंचे थे और उनकी हत्या कर दी गई। उनके बड़े पुत्र रोहित ने भी पुलिस पर सजग नहीं होने का आरोप लगाया है।

पोस्ट को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं

कन्हैयालाल के मोबाइल से की गई पोस्ट को लेकर पुलिस भ्रम में है। धमकी मिलने पर पुलिस में दर्ज करवाई गई रिपोर्ट में कन्हैयालाल ने खुद के द्वारा पोस्ट किए जाने की बात कही थी, जबकि उनकी हत्या के बाद स्वजन ने उनके सबसे छोटे बेटे द्वारा पोस्ट किए जाने की बात कही है।

पुलिस से झड़प, भाजयुमो का कार्यकर्ता घायल

घटना की सूचना पर कलेक्टर ताराचंद मीणा, पुलिस अधीक्षक मनोज चौधरी सहित पुलिस और प्रशासन के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे। मनोज चौधरी ने कहा कि हत्या बेरहमी से की गई है। जो भी अपराधी हैं, उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस बीच, हाथीपोल चौराहे पर युवाओं की पुलिस से झड़प में भारतीय जनता युवा मोर्चा का एक कार्यकर्ता घायल हो गया। लोगों ने थानाधिकारी को निलंबित करने की मांग की। ¨हदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने देहली गेट पर हत्यारों का पुतला फूंका और फांसी की सजा की मांग की है।

17 जून को भी बनाया था वीडियो

कन्हैयालाल की हत्या करने के बाद वीडियो जारी करने वाला रियाज अख्तरी हत्या की योजना काफी पहले ही बना चुका था। उसका एक और वीडियो हत्याकांड के बाद वायरल हुआ जो 17 जून को बनाया गया था। इसमें रियाज कन्हैयालाल की हत्या करने की योजना के बारे में कह रहा है। साथ ही, वह कह रहा है कि हत्या के बाद वीडियो जारी करेगा। उसने उदयपुर के असामाजिक तत्वों को दादा कहते हुए संबोधित किया और उन्हें चूडि़यां दिखाकर पहनने की सलाह दी।

Koo App
उदयपुर के एक सीधे-सादे नागरिक की बर्बरता से हत्या और आरोपियों द्वारा वीडियो बनाकर अपराध स्वीकारना बताता है कि तुष्टिकरण सीमाएं लांघ जाए तो वातावरण खूनी वैमनस्य का शिकार हो जाता है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ शिकायत को अनदेखा किया, जिसका वीभत्स परिणाम सामने है। यह वारदात सभ्य समाज को भयग्रस्त करने की साजिश का हिस्सा है, गहलोतजी सपाटबयानी कर पल्ला नहीं झाड़ सकते। उनकी जिम्मेदारी है प्रत्येक नागरिक को सुरक्षित महसूस कराना और उन कारणों पर रोक लगाना जिनसे इस तर्ज के अपराध और अपराधी पनप रहे हैं। - Gajendra Singh Shekhawat (@gssjodhpur) 28 June 2022

Edited By: Krishna Bihari Singh