आगरा [जासं]। विश्वदाय स्मारक आगरा किला से लगे रामलीला मैदान का बड़ा हिस्सा भरा न था। जो लोग थे, उनमें भी जोश का अभाव था। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को ऐसे ठंडे इस्तकबाल का शायद अंदाजा न रहा होगा। लेकिन लोगों का यह रुख राहुल के तीरों की धार कम न कर सका। उन्होंने आगरा की समस्याओं से शुरुआत की। आखिर मोदी को कठघरे में खड़े करने तक आगे बढ़े। उन्होंने कहा कि यदि मोदी सरकार में आए तो ताजमहल भी किसी उद्योगपति को दे दिया जाएगा।

आगरा लोकसभा सीट के प्रत्याशी उपेंद्र सिंह के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने पूछा भाजपा जिस होर्डिग पर भ्रष्टाचार मिटाने के नारे लिख रही है, वह होर्डिग लगाने को पैसा कहां से आया। यह पैसा गुजरात के टॉफी मॉडल से आ रहा है। पहले भाजपा में पहले आडवाणी हुआ करते थे, लेकिन मोदी और अडाणी आ गए हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष के मंच पर गठबंधन के सहयोगी रालोद का कोई नेता दिखाई नहीं दिया। न वहां रालोद के झंडे थे। जबकि आगरा जिले के अंतर्गत आने वाली फतेहपुर सीकरी सीट से लोकदल की टिकट पर अमर सिंह चुनाव लड़ रहे हैं।

इससे पहले महाराष्ट्र के हिंगोली और पुणे जनसभाओं में कांग्रेस उपाध्यक्ष ने महिला जासूसी मामले को लेकर नमो पर हमला किया। राहुल ने कहा, 'इस समय गुजरात में अडानीजी का राज है। पहले भाजपा में अटल बिहारी वाजपेयी-लालकृष्ण आडवाणी की जोड़ी थी। अब नरेंद्र मोदी-गौतम अडानी की जोड़ी है और उनका विकास मॉडल टॉफी मॉडल है। गुजरात मॉडल को टॉफी मॉडल करार देने की वजह स्पष्ट करते हुए राहुल ने कहा, 'गुजरात में अडानीजी को एक रुपये प्रति वर्गमीटर जमीन दी गई। एक रुपये में टॉफी ही मिल सकती है। इसलिए कह रहा हूं कि यह गुजरात मॉडल नहीं, बल्कि विकास का टॉफी मॉडल है।'

पढ़ें: टॉफी सरीखा है गुजरात का विकास मॉडल

मुझे पीएम के खिलाफ कठोर बयान नहीं देना चाहिए था: मोदी

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप