मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, एजेंसी। केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (CRPF) के शौर्य दिवस के मौके पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने राष्ट्रीय पुलिस स्मारक (National Police Memorial) पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान राष्ट्रपति ने ड्यूटी के दौरान शहीद हुए जवानों के परिजनों को सम्मानित किया। पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 सीआरपीएफ जवानों के परिजनों को सम्मानित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि हम अपने शहीदों को हमेशा याद रखेंगे।

14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama terror attack) के दौरान सीआरपीएफ के 40 जवानों शहीद हो गए थे। इस हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच काफी तनाव का माहौल बन गया था। हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान में मौजूद आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद ने ली थी।

बता दें कि देश के लिए बलिदान देने वाले जवानों की याद में चाणक्यपुरी में बने राष्ट्रीय पुलिस स्मारक का पिछले साल 21 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था । 30 फीट ऊंचे और नौ फीट चौड़े आकार के ग्रेनाइट पत्थर से बने इस शिलाखंड का वजन 250 टन है। प्रसिद्ध मूर्तिकार अद्वैत गडनायक के नेतृत्व में 30 कलाकारों ने पत्थर को तराशकर कलाकृति का रूप दिया। इसमें संसद पर व मुंबई में हुए आतंकी हमले के शहीदों के नाम दर्ज हैं और अर्धसैनिक व राज्य पुलिस बल के इतिहास से संबंधित वस्तुएं, पहनावे, अस्त्र-शस्त्र इत्यादि प्रदर्शित किए गए हैं।

गौरतलब है कि शौर्य दिवस सीआरपीएफ के वीर गाथा से जुड़ा आयोजन है। इसी दिन वर्ष 1965 में सीआरपीएफ की द्वितीय बटालियन की चार कंपनियों ने गुजरात के कच्छ इलाके में पाकिस्तान के एक इंफेंट्री ब्रिगेड के हमले को पूरी तरह नाकाम कर दिया था। यह घटना सेना युद्ध के इतिहास में रण कौशल व अद्वितीय बहादुरी की मिसाल है। तब से सीआरपीएफ में यह दिन शौर्य दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप