पणजी,  एजेंसिया। गोवा पुलिस ने एक महीने के अपहृत बच्चे को 24 घंटे में ही मुक्त करा लिया। मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शनिवार को राज्य पुलिस की सराहना की। एक महीने के शिशु का पणजी के सरकारी अस्पताल से अपहरण कर लिया गया था। पुलिस ने उत्तर गोवा के सालेली गांव से उसे मुक्त कराया। गोवा मेडिकल कालेज से शुक्रवार को शिशु का अपहरण कर लिया गया था। ओडिशा की रहने वाली बच्चे की मां ने स्थानीय पुलिस से संपर्क किया, उसके बाद पुलिस हरकत में आ गई।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, 'मैं गोवा पुलिस को राज्य में सबसे बड़ी तलाशी अभियान में से एक में सफलता मिलने पर बधाई दे रहा हूं। एक महीने के शिशु को 24 घंटे में ही मुक्त करा लिया गया। नागरिकों की सुरक्षा हमारी सरकार की शीर्ष प्राथमिकता में है।' एक पुलिस अधिकारी ने कहा, 'हम महिला से पूछताछ कर रहे हैं। सीसीटीवी में शिशु के साथ जो महिला दिख रही है वह उस महिला से मेल खा रही है। उसके घर में एक महीने का एक और बच्चा भी है।'

पुलिस के अनुसार 11 जून 2021 को अगगाकेम थाने में सूचना मिली थी कि गोवा मेडिकल कॉलेज से एक माह के बच्चे को अज्ञात महिला ने बच्चे के माता-पिता को धोखा देकर अगवा कर लिया है। शिकायत के तुरंत, उत्तरी गोवा जिला और अपराध शाखा की टीमें मौके पर पहुंचीं। पुलिस ने कहा कि महिला को पहचानना काफी मुश्किल था क्योंकि उसका चेहरा पूरी तरह से ढंका हुआ था। एसे उसकी स्पष्ट रूप से पहचान करना असंभव हो गया था।

पुलिस ने कहा कि पुलिस टीमों ने दिन-रात एक कर दिया और और 24 घंटों के भीतर विशिष्ट इनपुट पर बिचोलिम और वालपोई में तलाशी शुरू की गई। टीम को वालपोई के सालेली में शिशु के साथ संदिग्ध की पहचान हुई। उसको गिरफ्तार कर लिया गया। उसकी पहचान विश्रंती गावस के रूप में हुई। पुलिस ने बताया कि पूछताछ करने पर आरोपी ने खुलासा किया कि वह बच्चे को पालना चाहती थी और इसलिए उसे घर ले जाने के लिए बच्चे का अपहरण कर लिया था। मामले में आगे की जांच की जा रही है।

Edited By: Tanisk