नई दिल्ली, एएनआइ।  केंद्र सरकार ने बुधवार को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (पीएमजीकेपी) की अवधि और छह महीने के लिए बढ़ा दी। यह कोरोना के खिलाफ लड़ने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए एक बीमा योजना है।केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक बीमा योजना की अवधि को कोरोना मरीजों के इलाज में नियुक्त स्वास्थ्यकर्मियों के आश्रितों को सुरक्षा कवच मुहैया कराने के लिए बढ़ाया गया है।

मंत्रालय के अनुसार, सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और निजी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं सहित 22.12 लाख स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं को व्यापक व्यक्तिगत दुर्घटना कवर प्रदान करने के लिए 30 मार्च, 2020 को पीएमजीकेपी शुरू किया गया था। इसके तहत कोरोना के मरीजों के संपर्क में आने वाले स्वास्थ्यकर्मियों की मौत पर उनके आश्रितों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

इसमें आगे कहा गया है कि चूंकि कोविड-19 महामारी अभी भी समाप्त नहीं हुई है और कोरोना संबंधित कर्तव्यों के लिए तैनात स्वास्थ्य कर्मियों की मृत्यु अभी भी विभिन्न राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों से रिपोर्ट की जा रही है, इसलिए, बीमा पालिसी को बढ़ाया गया है। योजना के तहत अब तक 1351 दावों का भुगतान किया जा चुका है।

इसके अलावा, अभूतपूर्व स्थिति के कारण, निजी अस्पताल के सेवानिवृत्त कर्मचारी, वेतनभोगी कर्मचारी, राज्यों द्वारा बाहर से मांगे गए कर्मचारी के लिए केंद्र, राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों के केंद्रीय अस्पतालों, एम्स, राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों और केंद्रीय मंत्रालयों के अस्पतालों को भी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत इलाज के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया है।

Edited By: Manish Pandey