जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। मानसून की असमान बारिश होने से चालू खरीफ सीजन में धान की खेती के प्रभावित होने का अनुमान है। पूर्वी राज्यों में धान की खेती का रकबा घट गया है जिससे पैदावार में कमी आने की आशंका है। इसके बावजूद खाद्य मंत्रालय ने चालू खरीफ सीजन में रिकार्ड 518 लाख टन चावल खरीद की उम्मीद जताई है। खरीफ मार्केटिंग सीजन में धान की सरकारी खरीद चालू हो चुकी है। यह खरीद प्रमुख धान उत्पादक राज्य पंजाब और हरियाणा में हो रही है।

भारतीय खाद्य निगम के धान खरीद के आंकड़ों के मुताबिक फिलहाल हरियाणा में पिछले तीन चार दिनों में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कुल पौने दो लाख टन धान की खरीद हो चुकी है। जबकि पंजाब में तकरीबन 20.40 हजार टन धान खरीदा गया है। हालांकि लौटते मानसून की बारिश से राज्यों की मंडियों में धान की आवक बुरी तरह प्रभावित हुई है।

तमिलनाडु में 3.35 लाख टन धान की खरीद हो चुकी है। यहां किसानों की मांग पर सितंबर में ही खरीद शुरू कर दी गई थी। उत्तर प्रदेश में इस बार धान की खरीद का लक्ष्य 59.70 लाख टन रखा गया है जो पिछले साल 65.53 लाख टन था।

771.25 करोड़ टन धान खरीद का लक्ष्य पिछले साल के खरीफ सीजन में रिकार्ड उत्पादन होने से कुल 759.32 लाख टन धान की खरीद हुई थी। इस बार सरकारी खरीद 771.25 करोड़ टन होने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ज्यादातर राज्यों के राइस मिलर्स एसोसिएशनों ने भी सरकार के लक्ष्य को पा लेने का दावा किया है। चालू सीजन में खरीद के देर तक जारी रहने की संभावना है।

Video: Modi Cabinet ने 17 फसलों के लिए दी MSP को मंजूरी, क्या किसानों के सुधरेंगे हालात

भारतीय खाद्य निगम के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लौटते मानसून की हो रही वर्षा से धान की कटाई प्रभावित हो रही है, जिससे खरीद के लंबा खिंचने की संभावना है। निर्धारित लक्ष्य के पूरा होने तक खरीद जारी रहेगी।

ये भी पढ़ें: Paddy Procurement: पंजाब में धान खरीद शुरू, पढ़ें किसानों के लिए क्या हैं मंडियों में खास प्रबंध

खरीफ सीजन में 519 लाख टन धान की होगी सरकारी खरीद, उत्पादक राज्यों के खाद्य सचिवों की बैठक में हुआ तय

Edited By: Shashank Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट