श्रीनगर, जेएनएन। केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में अब जम्मू-कश्मीर पुलिस नहीं बल्कि लद्दाख पुलिस नए अंदाज में मुस्तैद नजर आएगी। लद्दाख पुलिस के जवानों और अधिकारियों के बाजू पर हिम तेंदुआ का बैज होगा। लद्दाख पुलिस का अपना झंडा और अपना निशान होगा। लद्दाख में कोई नया पुलिस संगठन तैयार नहीं हो रहा है, सिर्फ पुलिस संगठन का नाम बदला गया है।

लद्दाख कभी एकीकृत जम्मू-कश्मीर राज्य का हिस्सा था और पूरे राज्य में पुलिस संगठन को जम्मू-कश्मीर पुलिस कहा जाता था। जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम लागू होने के साथ ही जम्मू-कश्मीर राज्य दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर व लद्दाख में बंट गया। इसके बाद जम्मू कश्मीर और लद्दाख की प्रशासनिक व्यवस्था भी एक दूसरे से पूरी तरह अलग हो गई।

सभी विभागों का दोनों केंद्र शासित प्रदेशों में क्षेत्रफल, आबादी व अन्य मापदंडों के आधार पर बंटवारा हुआ है। करीब छह माह पहले लद्दाख प्रशासन ने वाहनों के पंजीकरण के लिए 'जेके' के स्थान पर 'एलए' अक्षर जो लद्दाख को चिह्नित करता है, का इस्तेमाल शुरू किया था। अलबत्ता, लद्दाख में पुलिस के सभी दस्तावेजों, पुलिसकर्मियों व अधिकारियों की वर्दी पर जम्मू-कश्मीर पुलिस ही लिखा जा रहा था। साथ ही जम्मू कश्मीर पुलिस का ही प्रतीक चिह्न इस्तेमाल किया जा रहा था।

केंद्र शासित लद्दाख प्रदेश के पुलिस प्रमुख एसएस खंडारे ने एक आदेश जारी करते हुए कहा कि पुलिस संगठन से जुड़े सभी दस्तावेजों, लैटर हेड, मुहरों में अब कहीं भी जम्मू कश्मीर पुलिस का नाम या निशान इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। इसके स्थान पर अब सिर्फ लद्दाख पुलिस लिखा होना चाहिए। कोई भी पुलिस अधिकारी अपनी वर्दी पर जम्मू-कश्मीर पुलिस का चिह्न भी धारण नहीं करेगा। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस