कोच्चि (एएनआई)। केरल नन दुष्कर्म मामले में बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर शिकंजा कसता जा रहा है। संबंधित केस में केरल पुलिस ने उच्च न्यायालय में हलफनामा दायर किया है। पुलिस ने अपने हलफनामे में कहा कि अभी तक की जांच में यह साफ है कि बिशप फ्रैंको ने अप्राकृतिक अपराध किया है और उसने नन के साथ दुष्कर्म किया है। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक, बिशप ने कई बार पीड़िता नन से दुष्कर्म किया था। वहीं दूसरी ओर पीड़िता ने आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ अब भारत में वेटिकन के प्रतिनिधि जियामबटिस्टा दिक्वात्रो को पत्र लिखकर मामले की तेजी से जांच कराने और बिशप फ्रैंको को पद से हटाने की गुहार लगाई है।

इस मामले में सीपीएम के पोलित ब्यूरो के सदस्य एस रामचंद्रन पिल्लाई ने कहा कि केरल सरकार या पार्टी किसी अपराधी का पक्ष नहीं लेगी। कानून और एजेंसियों अपना काम कर रहे हैं। ये अपने निष्कर्ष पर जब पहुंचेंगे तो सरकार अपना काम करेगी।

वहीं केरल नन दुष्कर्म केस के आरोपी बिशप के पीआरओ ने कहा कि बिशप एक सेमिनार के लिए गए हुए है और शाम तक वापस आएंगे। हमारे पास केरल से कोई जानकारी नहीं है। कोई भी सूचना मिलेगी तो हम जांच में जरूर सहयोग करेंगे। 

केस वापस लेने के लिए दिया लालच

नन से कथित दुष्कर्म मामले में पीड़िता के परिवार का कहना है कि केस वापस लेने के लिए उन पर दबाव बनाया जा रहा है। पीड़िता के भाई का कहना है कि आरोपी लगातार अपने एक दोस्त के माध्यम से केस वापस लेने के लिए 5 करोड़ का प्रस्ताव दे रहा है। हमने पुलिस को भी इस बारे में जानकारी दी है। पैसों के साथ आरोपी ने 10 एकड़ जमीन का भी लालच दिया है।

केरल हाईकोर्ट अपनाया कड़ा रुख

मामले में केरल हाईकोर्ट ने सोमवार को कड़ा रुख अपनाया था। पीठ ने राज्य सरकार से इस संबंध में गठित विशेष जांच टीम द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देने को कहा था। साथ ही दो जनहित याचिकाओं की सुनवाई करते हुए केरल सरकार से पीड़िता की शिकायत के बाद की गई। कार्रवाई के संबंध में एक हलफनामा दायर करने को भी कहा था। अब इस मामले की अगली सुनवाई गुरुवार को होगी। बता दें कि रोमन कैथोलिक चर्च के बिशप और जालंधर डायसिस से ताल्लुक रखने वाले फ्रेंको मुलाक्कल पर नन से दुष्कर्म करने का आरोप है।

Posted By: Arti Yadav