मुंबई, पीटीआइ। पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के चलते सीबीआइ कस्टडी में चल रही महिला आरोपी कविता मानकीकर ने सूर्यास्त के बाद अपनी गिरफ्तारी को बांबे हाई कोर्ट में चुनौती दी है। सोमवार को याचिका दाखिल कर नीरव मोदी की कंपनी की कर्मचारी कविता ने दावा किया कि सीबीआइ ने नियमों का उल्लंघन करते हुए उसे 20 फरवरी को रात आठ बजे गिरफ्तार किया। कानूनी प्रावधानों का हवाला देते हुए उसकी ओर से कहा गया कि किसी भी महिला को सूर्यास्त के बाद गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है। लिहाजा उसकी गिरफ्तारी को गैरकानूनी एवं असंवैधानिक घोषित किया जाए। इस पर हाई कोर्ट 12 मार्च को सुनवाई करेगा।

जस्टिस एनडब्ल्यू सांब्रे की एकल पीठ के समक्ष कविता की तरफ से वकील विजय अग्रवाल ने उपरोक्त याचिका दाखिल की। कविता मानकीकर पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी हीरा व्यापारी नीरव मोदी की कार्यकारी सहायक है। वह मोदी की तीन कंपनियों डायमंड आर यूएस, स्टेलर डायमंड एवं सोलर एक्सपोर्ट की अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता भी है। उसे विपुल अंबानी समेत पांच अन्य के साथ गिरफ्तार किया गया।

कविता के वकील ने कहा, 'कानून के प्रावधानों का उल्लंघन करने के कारण अदालत याचिकाकर्ता की गिरफ्तारी को अवैध एवं असंवैधानिक करार दे।' सीबीआइ ने आरोप लगाया है कि कविता मानकीकर ने फजीवाड़ा करते हुए लेटर्स ऑफ अंडरस्टेडिंग (एलओयू) जारी करने के आवेदन पर हस्ताक्षर किया है। ध्यान रहे कि जांच एजेंसी ने हजारों करोड़ के पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चौकसी सहित कई अन्य के खिलाफ 31 जनवरी को केस दर्ज किया।

 

Posted By: Tilak Raj