नई दिल्‍ली, जेएनएन। विवाह के लिए न्‍यूनतम उम्र के मामले पर दिल्‍ली हाई कोर्ट में बुधवार को एक याचिका दाखिल की गई। याचिका में कहा गया है कि मामले में उम्र का निर्धारण लड़के के लिए अलग व लड़कियों के लिए अलग किया गया है जो लैंगिक समानता, न्‍याय और महिलाओं के सम्‍मान के विरुद्ध है। विवाह के लिए लड़कों की 21 वर्ष और लड़कियों की 18 वर्ष न्‍यूनतम उम्र बताई गई है। यह व्‍यवस्‍था महिलाओं व पुरुषों में भेद करती है।

भाजपा नेता और वकील अश्‍विनी कुमार उपाध्‍याय ने अपनी याचिका में लड़कियों और लड़कों के लिए शादी की न्‍यूनतम उम्र एक समान करने की मांग की है। याचिकाकर्ता ने मौजूदा व्‍यवस्‍था को महिलाओं की गरिमा, लैंगिक समानता व न्‍याय के खिलाफ करार दिया है। याचिका में दावा किया है कि लड़के लड़कियों के लिए न्‍यूनतम वैवाहिक उम्र का निर्धारण हमारे पितृसत्‍तात्‍मक समाज को दर्शाता है क्‍योंकि इसके पीछे कोई वैज्ञानिक तथ्‍य नहीं है। यह कानूनी तौर पर और हकीकत में भी महिलाओं के प्रति असमानता को दर्शाता है और वैश्विक चलन के भी खिलाफ है। 

इसके पहले उन्‍होंने सरकार को राष्ट्रीय गीत ‘वंदे मातरम’ को राष्ट्र गान ‘जन गण मन’ के समान दर्जा और सम्मान देने के लिए राष्ट्रीय बनाने का निर्देश देने का अनुरोध करते हुए एक याचिका दाखिल की थी जिसे खारिज कर दिया गया।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Monika Minal