वॉशिंगटन, एजेंसी। अमेरिका के एक शीर्ष सांसद ने पाकिस्तान से अमेरिका आने वाले लोगों की और अधिक कड़ी जांच की मांग की है। साथ ही उन्होंने पाकिस्तान में बड़ी संख्या में आतंकियों के मौजूद होने का आरोप भी लगाया।

गौरतलब है कि न्यूयॉर्क में एक दिन पहले हुए हमले के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी योग्यता आधारित प्रणाली को अपनाने पर जोर दिया। कांग्रेस सदस्य पीटर किंग ने कहा कि अगर उस देश से कोई व्यक्ति आता है, जिस देश में आतंकी बड़ी संख्या में मौजूद हैं तो उस देश से आने वालों की और अधिक कड़ी जांच होनी चाहिए, ताकि इस तरह का कोई भी व्यक्ति न आ सके।

पाकिस्तान को सौंपी 20 आतंकी संगठनों की सूची
अमेरिका ने 20 आतंकी संगठनों की एक सूची पाकिस्तान के साथ साझा की है। इनमें जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन जैसे आतंकी संगठन भी शामिल हैं। अमेरिका का मानना है कि ये आतंकी संगठन भारत और अफगानिस्तान को निशाना बनाने के लिए पाकिस्तान की धरती से काम कर रहे हैं। सूची में अमेरिका ने हक्कानी नेटवर्क को सबसे ऊपर रखा है। अमेरिका का कहना है कि ये उत्तरी-पश्चिमी पाकिस्तान के संघीय प्रशासित क्षेत्रों में सक्रिय है और इसका अफगानिस्तान में हमले करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

तीन तरह के आतंकी संगठन
अमेरिका ने सूची में तीन तरह के आतंकी संगठनों का जिक्र किया। एक वह जो अफगानिस्तान में हमला करे हैं, दूसरे जो पाकिस्तान के अंदर ही हमले करते हैं और तीसरे कश्मीर में हमले करते हैं। भारत में हमले करने के लिए जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हरकतुल मुजाहिदीन को भी अमेरिका ने इस सूची में रखा है।

यह भी पढ़ें: तंकियों के खिलाफ कार्रवाइयों पर पाक का बचना होगा मुश्किल

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस