नई दिल्ली, जेएनएन। पाकिस्तान की शक्तिशाली सेना और सरकार के बीच फूट की खबर छापने वाले पाकिस्तानी पत्रकार सिरील अलमेडा की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है और उसे अपने खिलाफ कोई बड़ी अनहोनी का डर सताने लगा है। उसे इस बात का खौफ है कि उसके खिलाफ पाकिस्तान की नवाज सरकार कुछ भी करवा सकती है।


इससे पहले पाकिस्तान की सरकार ने मंगलवार की सुबह सिरिल अलमेडा को एग्जिट कंट्रोल लिस्ट में डाल दिया था। इसका यह मतलब है कि वह देश छोड़कर नहीं जा सकता है।

अलमेडा ने 6 अक्टूबर को डॉन अखबार के लिए एक एक्सक्लूसिव स्टोरी की थी जिसमें उसने यह लिखा था कि सरकारी अधिकारियों ने इस बात की शिकायत की थी कि जब भी वह किसी आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं उन्हें ऐसा करने से देश की सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से रोक दिया जाता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आज अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से अलग-थलग होने की चुनौतियों का सामना कर रहा है। इसलिए, सेना से यह बात बता दी गई है कि उन्हें आतंकियों पर कार्रवाई करनी हो होगी।

पढ़ें- पाक मंत्री ने बताई वजह, क्यों डॉन के पत्रकार अलमीड़ा को नहीं छोड़ने दे रहे देश

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सोमवार को डॉन में छपे आर्टिकल को मनगढ़ंत करार देते हुए इसके लिए जिम्मेदार शख्स को खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया था।

सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तानी की सेना डॉन की खबर के बाद काफी निराश हो गई थी और वहां की सरकार से इस खबर से मुकरने को कहा था। अल्मेडा की रिपोर्ट गुलाम कश्मीर में भारतीय सेना की तरफ से की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद छापी गई थी। 29 सितंबर को की गई यह सर्जिकल स्ट्राइक जम्मू-कश्मीर के उड़ी में सेना के बटालियन पर पाकिस्तान के जैश-ए-मोहम्मद की तरफ से किए गए हमले के बाद की गई थी। उड़ी में हुए इस आतंकी हमले में सेना के 18 जवान शहीद हो गए थे।

पढ़ें- सेना ने अपनाया 'दुश्मन शिकार-हम शिकारी' का मंत्र, पाक को मिलेगा जवाब

Edited By: Rajesh Kumar