नई दिल्ली, आइएएनएस। पाकिस्तान अपने यहां इंजीनियरिंग एवं डॉक्टरी की पढ़ाई करने आए कश्मीरी छात्रों को वजीफा दे रहा है। इन छात्रों को अलगाववादी संगठन हुर्रियत के नेताओं की सिफारिश पर नई दिल्ली स्थित पाक उच्चायोग आसानी से वीजा जारी कर देता है। इसके बाद घाटी के युवाओं का पाकिस्तान के मेडिकल एवं इंजीनियरिंग कॉलेजों में सहजता से दाखिला हो जाता है। ऐसा नहीं कि यह सुविधा सभी कश्मीरियों के लिए है। सिर्फ उन्हीं परिवारों के बच्चों के लिए पाकिस्तान दरियादिली दिखा रहा है, जो या तो आतंकियों के रिश्तेदार हैं अथवा उनके परिवार का जुड़ाव अलगाववादियों से है।

दिल्ली की एक अदालत में टेरर फंडिंग मामले में 18 जनवरी को दाखिल चार्जशीट में एनआइए ने यह आरोप लगाया है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) का कहना है कि आतंकियों या अलगाववादियों के परिवार के कश्मीरी युवाओं को वीजा व वजीफा देकर डॉक्टरी और इंजीनियरिंग पढ़ाने के पीछे उन्हें पाकिस्तान का पिट्ठू बनाना है। एजेंसी के अनुसार, जांच के दौरान पाया गया कि ज्यादातर आतंकियों और अलगाववादियों के रिश्तेदार ही एमबीबीएस और इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए वीजा लेकर पाकिस्तान जा रहे हैं। हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी सहित दूसरे अलगाववादी नेता ऐसे परिवार के छात्रों को वीजा देने की पाक उच्चायोग से सिफारिश करते हैं। फिर आसानी से वीजा मिल जाता है।

एनआइए के मुताबिक, इसके बाद पाकिस्तान में शरण लिए आतंकी गुलाम कश्मीर में बसे हुर्रियत नेताओं की मदद से अपने रिश्तेदार छात्रों का दाखिला करा देते हैं। फिर पाकिस्तान सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत एमबीबीएस और इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले कश्मीरी छात्रों को वजीफा स्वीकृत हो जाता है। जांच एजेंसी का आरोप है, 'आतंकी, हुर्रियत और पाक सरकार के गठजोड़ से कश्मीर में पाकिस्तान समर्थक डॉक्टरों और इंजीनियरों की पूरी फौज तैयार करने की गहरी साजिश चल रही है।'

हाफिज सईद व सलाहुद्दीन को बनाया आरोपी

चार्जशीट के साथ एनआइए ने हुर्रियत नेता नईम खान व शाहिद उल इस्लाम के आवास से बरामद दस्तावेजों को भी नत्थी किया है। इसमें खान ने एक लड़के को पाकिस्तान के एक बड़े मेडिकल में दाखिला देने की सिफारिश की है। जबकि इस्लाम ने वीजा देने की सिफारिश पाक उच्चायोग से की है। कहा है कि उक्त छात्रों का परिवार कश्मीर की आजादी के लिए समर्पित है। चार्जशीट में लश्कर संस्थापक हाफिज सईद, आतंकी सरगना सैयद सलाहुद्दीन सहित टेरर फंडिंग मामले में गिरफ्तार सात कश्मीरी अलगाववादियों व तीन अन्य को आरोपी बनाया गया है। गिरफ्तार हुर्रियत नेताओं में गिलानी का दामाद अल्ताफ अहमद शाह भी शामिल है।

Posted By: Manish Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस