भुवनेश्वर, एजेंसी। Cyclone Fani चक्रवाती तूफान 'फणि' से प्रभावित लोगों की मदद के लिए ओडिशा के मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक (Odisha Chief Minister Naveen Patnaik) ने अपनी एक साल की तनख्‍वाह मुख्‍यमंत्री राहत कोश में दान कर दी है। यही नहीं मुख्‍यमंत्री ने राज्‍य में आपदा प्रभावित लोगों के लिए एक स्वतंत्र पैकेज की घोषणा भी की है। राज्य सचिवालय में उच्चस्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि तूफान से सबसे प्रभावित पुरी जिले में खाद्य सुरक्षा योजना के तहत हर लाभार्थी को 50 किलोग्राम चावल और 2000 रुपये नगद दिए जाएंगे।

दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ही ओडिशा में फणि तूफान से हुई तबाही का जायजा लिया। प्रधानमंत्री ने तूफान से प्रभावित ओडिशा के इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान मुख्यमंत्री भी उनके साथ मौजूद थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि तूफान को लेकर राज्य और केंद्र सरकार के बीच बेहतरीन समन्‍वय देखा गया। उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पहले 381 करोड़ रुपये की घोषणा की थी, अब 1000 करोड़ रुपये जारी किए जाएंगे।  

बता दें कि विनाशकारी तूफान फणि के गुजर जाने के 36 घंटे बाद भी ओडिशा के प्रभावित इलाकों में जनजीवन पटरी पर नहीं लौट सका है। तूफान से राज्य के 11 जिले प्रभावित हुए हैं। पुरी व खुर्दा जिले सर्वाधिक प्रभावित हैं। यहां बिजली-पानी व खाद्य सामग्री का संकट अभी भी बना हुआ है। इस आपदा में मृतकों की संख्या 39 तक पहुंच गई है। हालांकि, प्रशासन ने 29 लोगों मारे जाने की पुष्टि की है। अकेले धार्मिक नगरी पुरी में ही 21 लोगों की जान चली गई है।

प्रशासन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि हालात को सामान्य बनाने के लिए युद्धस्तर पर कार्य किए जा रहे हैं। तूफान से 10 हजार गांव व 52 शहरी इलाके प्रभावित हुए हैं और करीब एक करोड़ की आबादी इसकी चपेट में आई है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने उम्मीद जताई है कि बहुत जल्द पुरी व भुवनेश्वर में बिजली-पानी की आपूर्ति सुचारू रूप से होने लगेगी। रविवार को उन्होंने कहा कि प्रभावित इलाकों में अगले 15 दिनों तक सरकार लोगों को भोजन मुहैया कराएगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप