जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पांच भारतीय जवानों की हत्या और लगातार जारी संघर्ष विराम उल्लंघनों के बीच भारत ने दो टूक कहा है कि सरहद पर उकसावे की करतूतें और दोस्ती की बातें एक साथ नहीं चल सकतीं। भारत ने स्पष्ट किया है कि दोनों मुल्कों के संबंध में सीमा और वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान सबसे बड़ा विश्वास निर्माण का उपाय है। भारत ने यह प्रतिक्रिया पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के एक पुराने बयान को नया समझकर दी है। नवाज का यह बयान पाकिस्तान की न्यूज एजेंसी ने भूल से जारी कर दिया था।

भारत-पाक संबंधों की खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि भारत में इस समय काफी निराशा और गुस्से का माहौल है। ऐसे में पाकिस्तान की ओर से आने वाले किसी भी प्रस्ताव पर जवाब से पहले हमारी अपेक्षा है कि स्थिति सामान्य और स्पष्ट हो।

पढ़ें : पाकिस्तानी सैनिकों को करारा जवाब देने के लिए भारतीय सैनिकों को मिली खुली छूट

पढ़ें : भारत-पाक के बीच दोस्ती करवाने के लिए तैयार हैं मून

इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैय्यद अकबरुद्दीन ने संघर्ष विराम उल्लंघनों को बिना किसी उकसावे की कार्रवाई बताते हुए कहा कि हाल के दिनों में पेश आए घटनाक्रम के बीच हमें लगता है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा और वास्तविक नियंत्रण रेखा की मर्यादा और गरिमा को बनाए रखना सबसे जरूरी है। यह हमारे लिए दोनों देशों के बीच सबसे महत्वपूर्ण विश्वास निर्माण का उपाय है।

प्रवक्ता ने कहा कि हमारी उम्मीद है कि पाक अपने उस सार्वजनिक वादे का सम्मान करेगा, जिसमें उसकी और उसके नियंत्रण वाली धरती को भारत के खिलाफ आतंकवाद के लिए इस्तेमाल की इजाजत न देने की बात कही गई थी। हम देखना चाहेंगे कि पाकिस्तान आतंकी ढांचे को खत्म करने के लिए मजबूत कदम उठा रहा है और 26 नवंबर, 2008 के मुंबई आतंकी हमले के गुनहगारों को सजा दिलाने की दिशा में ठोस कार्रवाई कर रहा है।

बीते माह हमें पाक की ओर से सचिव स्तर कुछ वार्ता के कुछ प्रस्ताव मिले हैं, जिनकी मेजबानी पाकिस्तान को करनी है। पाकिस्तानी सेना द्वारा पांच भारतीय सैनिकों की हत्या से इस वार्ता में दे होगी, क्योंकि यह भी सच है कि शांति पूर्ण बातचीत के लिए उचित माहौल होना चाहिए। पाक की ओर से अगस्त मध्य में जल संसाधन सचिवों और सितंबर की शुरुआत में सरक्रीक मामले पर वार्ता के लिए प्रस्ताव दिए गए थे। पाक की ओर से चैंपियंस ट्रॉफी टी-20 चैंपियनशिप के लिए वीजा आवेदन के बारे में पूछे जाने पर अकबरुद्दीन ने कहा कि अभी इस टूर्नामेंट के शुरु होने में वक्त है और सरकार आवेदनों पर गौर करने के साथ सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर फैसला करेगी।

ईद के मौके पर पाकिस्तान में मुंबई आतंकी हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद की सभाओं और भारत विरोधी बयान पर प्रतिक्रिया में विदेश मंत्रालय ने कहा कि मुंबई हमले की साजिश रचने वाले को सजा मिलनी चाहिए। जब तक ऐसा नहीं होता तब तक शांति से नहीं बैठेंगे।

भारत-पाकिस्तान से दोस्ताना रिश्ते के लिए प्रतिबद्ध : राष्ट्रपति

नई दिल्ली। नियंत्रण रेखा पर भारतीय सैनिकों की हत्या को लेकर तनाव बढ़ने के बावजूद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंगलवार को पाकिस्तान से दोस्ताना रिश्ते के प्रति प्रतिबद्धता जताई। उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान से ऐसा दोस्ताना व सहयोगात्मक रिश्ते बनाने के लिए प्रतिबद्ध है, जिससे क्षेत्र में शांति स्थापित हो।

मुखर्जी ने यह प्रतिबद्धता अपने पाकिस्तानी समकक्ष आसिफ अली जरदारी को 14 जनवरी को पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस पर भेजे एक संदेश में जताई है। इस संदेश में उन्होंने कहा है, 'पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मुझे सरकार और भारत की जनता की ओर से पाकिस्तान सरकार और वहां की जनता को बधाई देते खुशी हो रही है। मैं इस अवसर को भारत के पाकिस्तान के साथ दोस्ताना और सहयोगात्मक रिश्ते की प्रतिबद्धता दोहराने के लिए करता हूं। इससे हमारे क्षेत्र में शांति और उन्नति और समृद्धि आएगी।'

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप