जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। देश की पहली स्वचालित सेमी हाईस्पीड ट्रेन 'वंदे भारत एक्सप्रेस' की दूसरी रैक चेन्नई से दिल्ली पहुंच गई है। इसका दिल्ली से अमृतसर के बीच नई वंदे भारत एक्सप्रेस के रूप में उपयोग किए जाने की संभावना है। जब तक ऐसा नहीं होता, इसका उपयोग दिल्ली-वाराणसी के बीच चल रही पहली वंदे भारत की स्पेयर रैक के तौर पर किया जाएगा।

फिलहाल इस रैक को तुगलकाबाद स्टेशन पर रखा गया है। चूंकि इस रैक में पहली के मुकाबले कई परिवर्तन किए गए हैं, लिहाजा इसके नियमित संचालन का फैसला परीक्षण संचालनों के बाद किया जाएगा। इसे भी चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में ही तैयार किया गया है।

रेलवे बोर्ड के अधिकारी इस रैक के रूट को लेकर बेहद गोपनीयता बरत रहे हैं। वे इसका उपयोग मौजूदा वंदे भारत के स्पेयर रैक के रूप में ही किए जाने की बात कर रहे हैं। हालांकि, एक वरिष्ठ अधिकारी की मानें तो इसका इस्तेमाल दिल्ली-अमृतसर मार्ग पर नई वंदे भारत एक्सप्रेस के रूप में किया जाएगा।

पहली वंदे भारत की खामियों को देखते हुए नई रैक में कई अहम बदलाव किए गए हैं। उदाहरण के लिए, इसमें पेंट्री की जगह को बढ़ाया गया है। खिड़कियों को पत्थरबाजी के कारण चकनाचूर होने से बचाने के लिए इनके शीशों पर खास तरह की फिल्म चढ़ाई गई है। पशुओं की टक्कर से ट्रेन की नोज को नुकसान से बचाने के लिए हार्ड एल्यूमिनियम का कैटलगार्ड लगाया गया है। इसकी इलेक्टि्रक वायरिंग भी पहले के मुकाबले ज्यादा तापरोधी है। वॉशबेसिन और बॉटल होल्डर की डिजाइन को भी अधिक सुविधाजनक बनाया गया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप