नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। देश में प्रत्येक वर्ष अक्टूबर से सबसे लंबे त्योहारी सीजन की शुरूआत हो जाती है। इसके साथ ही घूमने-फिरने का भी परफेक्ट पीरियड शुरू हो जाता है। इस महीनें आपको दो लंबे अवकाश मिलने वाले हैं। इन अवकाश के लिए अगर आपने अब तक कोई प्लान नहीं बनाया है तो आप बिना किसी पूर्व प्लानिंग के दिल्ली-आसपास कई जगहों पर घूमने जा सकते हैं। यहां आपको पहाड़, जंगल, झील से लेकर हर तरह के पर्यटन का आनंद मिलेगा। हम आपको दिल्ली आसपास के उन पर्यटन स्थलों के बारे में बता रहे हैं, जो बेहद खूबसूरत होने के बावजूद भीड़भाड़ से अछूते हैं। खास बात ये है कि इन जगहों पर काफी कम बजट में भी छुट्टियों का भरपूर आनंद लिया जा सकता है। 

अक्टूबर का पहला लंबा अवकाश

दिन               तिथि           अवकाश

शनिवार       05 नवंबर         शनिवार

रविवार       06 अक्टूबर       रविवार

सोमवार      07 अक्टूबर     महानवमी

मंगलवार    08 अक्टूबर        दशहरा

(नोट- ज्यादातर जगहों पर महानवमी की छुट्टी नहीं होती। ऐसे में एक दिन की छुट्टी का जुगाड़ कर लिया जाए तो चार दिन के अवकाश का आनंद लिया जा सकता है।)

अक्टूबर का दूसरा लंबा अवकाश

दिन             तिथि                  अवकाश

शनिवार     26 अक्टूबर          चौथा शनिवार

रविवार      27 अक्टूबर       रविवार/दीपावली

सोमवार     28 अक्टूबर         गोवर्धन पूजा

मंगलवार    29 अक्टूबर            भाई दूज

(नोट - 28 व 29 अक्टूबर को स्कूल-कॉलेज समेत बहुत से ऑफिस में भी छुट्टियां रहती हैं। कुछ जगहों पर इसे राज्य सरकार द्वारा वैकल्पिक अवकाश घोषित किया गया है। ऐसे में आपको चार दिन का लंबा अवकाश मिल सकता है।)

नवंबर में भी है लंबा अवकाश

दिन             तिथि             अवकाश

शनिवार     09 नवंबर        दूसरा शनिवार

रविवार      10 नवंबर      रविवार/ईद-ए-मिलाद

मंगलवार    12 नवंबर      गुरुनानक जयंती

(नोट- अगर सोमवार के अवकाश का इंतजाम कर लिया जाए तो चार दिन के लंबे अवकाश का आनंद लिया जा सकता है।)

कहां घूमने जाएं

1. दमदम लेक (Damdama Lake) - परिवार या दोस्तों के साथ घूमने के लिए ये जगह सबसे बेहतरीन है। यहां आप हरी-भरी अरावली की पहाड़ियों पर रॉक क्लाइंबिंग और ट्रैकिंग का भी मजा ले सकते हैं। यहां पर गर्म हवा के गुब्बारे, पैरासीलिंग, साइकलिंग और झील में कई तरह की नौका विहार का भी आनंद ले सकते हैं। यहां पर 190 प्रजाति के पक्षी निवास करते हैं।

स्थान - सोहना, हरियाणा

दिल्ली से दूरी - 63.1 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अगस्त से फरवरी

2. आगरा (Agra) - ये शहर अपनी शानदार ऐतिहासिक धरोहरों के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। ताजमहल, लाल किला, जहांगीर पैलेस, खास महल, शीष महल, फेतहपुर सीकरी, जामा मस्जिद, बुलंद दरवाजा, बीरबल निवास, पंच महल, अकबर का मकबरा, सिंकद्रा फोर्ट, जोधा बाई का रौजा, मेहताब बाग समेत तमाम मुगलकालीन विरासतें आज भी मौजूद हैं।

स्थान - आगरा, उत्तर प्रदेश

दिल्ली से दूरी - 233 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च

3. हरिद्वार (Haridwar) - हिंदू धर्म में इस जगह की मान्यता काफी ज्यादा है। यही वजह है कि हरिद्वार भारत के मुख्य आध्यात्मिक तीर्थ स्थलों में से एक है। माना जाता है कि यहां स्वच्छ निर्मल गंगा में डुबकी लगाने से जन्मों के पाप धुल जाते हैं। यहां मौजूद हरि की पौड़ी, मनसा देवी मंदिर और चंडी देवी मंदिर काफी प्रसिद्ध है। मनसा देवी का मंदिर पहाड़ पर स्थित है, जिसके लिए आप पैदल जा सकते हैं या फिर रोप वे का इस्तेमाल कर सकते हैं। रोप से मनसा देवी जाते वक्त आपको गंगा और उसके आसपास के जंगल का दुर्लभ नजारा देखने को मिलता है। यहां हर की पौड़ी पर प्रतिदिन शाम को होने वाली गंगा आरती, वाराणसी में होने वाली गंगा आरती की तरह ही विश्व प्रसिद्ध है।

स्थान - हरिद्वार, उत्तराखंड

दिल्ली से दूरी - 231 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अगस्त से अक्टूबर

4. भरतपुर पक्षी विहार (Bharatpur Bird Sanctuary) - अगर आपको प्रकृति से प्रेम है और हवा में उड़ते रंग-बिरंगे पक्षी आपको आकर्षित करते हैं तो ये जगह आपके लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। इसे केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान (Keoladeo Ghana National Park) के नाम से भी जाना जाता है। ये जगह देशी-विदेशी प्रजाति के 370 पक्षियों का आशियाना है। इसके अलावा यहां 379 प्रकार की वनस्पतियां, 50 तरह की मझलियां, 13 तरह के सांप, पांच तरह की छिपकलियां, सात तरह के कछुए यहां आने वालों का ध्यान अपनी तरफ खींचते हैं। भारत में साइबेरियन केन (Siberian Crane) के प्रमुख ठिकानों में से ये एक है। यहां साइकिल, रिक्शा या तांगे की सवारी से पक्षी विहार का मजा लिया जा सकता है।

स्थान - भरतपुर, राजस्थान

दिल्ली से दूरी - 222 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अगस्त से नवंबर

5. सरिस्का नेशनल पार्क (Sariska National Park) - दिल्ली में मौजूद अरावली की पहाड़ियों के पीछे मौजूद सरिस्का नेशनल पार्क 866 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला हुआ है। ये जगह भारत के चुनिंदा वन्य जीव स्थानों में शामिल है। वाइल्ड लाइफ टूरिज्म (Wild Life Tourism) के लिए जगह पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। बाघों के अलावा यहां जंगली कुत्ते, जंगली बिल्लियों, लकड़बघ्घों, जकाल, दुर्लभ पक्षियों और चीतों समेत कई वन्य जीव यहां के विशालकाय प्राकृतिक आवास में मौजूद हैं। यहां खुली जीप से जंगल की सैर का मजा लिया जा सकता है।

स्थान - अलवर, राजस्थान

दिल्ली से दूरी - 202 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च

6. मथुरा (Mathura), वृंदावन (Vrindavan) और बरसाना (Barsana) - भगवान कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा देशी-विदेशी पर्यटकों के लिए प्रमुख आध्यात्मिक केंद्र है। विश्व प्रसिद्ध बांके बिहारी, वृंदावन व इस्कॉन समेत हजारों की संख्या में छोटे-बड़े ऐतिहासिक मंदिर होने की वजह से इसे मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। भगवान कृष्ण का बचपन वृंदावन में गुजरा है। उनकी प्रेमिका राधा बरसाना में जन्मी थीं। बरसाना या बरसाने की लठमार होली पूरी दुनिया में सबसे अनोखी और प्रसिद्ध है।

स्थान - मथुरा, उत्तर प्रदेश

दिल्ली से दूरी - 145 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च। यहां की जन्माष्टमी और होली भी काफी प्रसिद्ध है।

7. अलवर (Alwar) - हरी-भरी छोटी पहाड़ियों से घिरा ये शहर समृद्ध भारतीय इतिहास की अनमोल धरोहर है। यहां कई ऐतिहासिक किले हैं जो अब होटल और रेस्टोरेंट में बदल चुके हैं। यहां रहकर आप भी कुछ देर के लिए शाही शानो-शौकत को करीब से महसूस कर सकते हैं। यहीं पर प्रसिद्ध सरिस्का टाइगर रिजर्व (Sariska Tiger Reserve) और भानगढ़ का भूतिया किला ( Haunted Bhangarh Fort) भी मौजूद है।

स्थान - अलवर, राजस्थान

दिल्ली से दूरी - 165 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च

8. नीमराना (Neemrana) - दिल्ली-जयपुर हाईवे पर मौजूद ये छौटा सा औद्योगिक शहर मिनी जापान के नाम से भी प्रसिद्ध है। यहां 16वीं शताब्दी में बना पृथ्वी राज चौहान का खूबसूरत नीमराना किला एक नजर में किसी का भी दिल जीत सकता है। यहां महाभारत काल (Mahabharat Age) का केसरोली किला (Kesroli Fort) भी मौजूद है।

स्थान - अलवर, राजस्थान

दिल्ली से दूरी - 130 किमी

घूमने का बेहतरीन मौका - अक्टूबर से मार्च

9. मानेसर (Manesar) - राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में शामिल मानेसर, गुड़गांव का औद्योगिक क्षेत्र है। यहां बड़ी-बड़ी औद्योगिक इमारतों के बीच आप प्राकृतिक छटा का मजा ले सकते हैं। यहां सुल्तानपुर पक्षी विहार (Sultanpur Bird Sanctuary), मानेसर गोल्फ कोर्स, शीतला देवी मंदिर सहित घूमने-फिरने की कई जगहें हैं।

स्थान - गुड़गांव, हरियाणा

दिल्ली से दूरी - 56 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च और जून से सितंबर

10. कुचेसर (Kuchesar) - बुलंदशर जिले में मौजूद ये जगह ब्रिटिशकालीन धरोहरों के लिए मशहूर है। यहां मौजूद मड फोर्ट (Mud Fort) मुख्य आकर्षण है, जो कि अब हैरिटेज होटल में तब्दील हो चुका है। इस शहर का पौराणिक महत्व भी है। माना जाता है कि महाभारत काल में हस्तिनापुर से निकाले जाने के बाद पांडवों ने यहां निवास किया था।

स्थान - बुलंदशहर, उत्तर प्रदेश

दिल्ली से दूरी - 99 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से अप्रैल

11. कुरुक्षेत्र (Kurukshetra) - महाभारत काल से जुड़े होने की वजह से इस शहर का पौराणिक महत्व काफी ज्यादा है। माना जाता है कि भगवान कृष्ण ने यहां के ज्योतिसार (Jyotisar) में पहली बार भगवत गीता का उपदेश दिया था। यहां कई मंदिर और झील हैं, जहां कम समय में घूमा जा सकता है।

स्थान - कुरुक्षेत्र, हरियाणा

दिल्ली से दूरी - 158 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च और जून से सितंबर

12. करनाल (Karnal) - राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में मौजूद इस शहर का भी महाभारत काल से जुड़ाव है। यहां मौजूद करनाल लेक (Karnal Lake) व किला, पुक्का पुल और कैंटोनमेंट चर्च टॉवर आकर्षण का प्रमुख केंद्र हैं। एक दिन की आउटिंग के लिए ये बेहतरीन विकल्प हो सकता है।

स्थान - करनाल, हरियाणा

दिल्ली से दूरी - 121 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूबर से मार्च

13. डीग (Deeg) - ये भगवान कृष्ण के परिक्रमा मार्ग का एक हिस्सा है, जो कि यहां से 14 किमी दूर गोवर्धन से शुरू होता है। इस पर्यटन स्थल के बारे में अभी कम ही लोग जानते हैं। यहां का डीग पैलेस (Deeg Palace) जिसे डीग का जल महल (Jal Mahal of Deeg) भी कहा जाता है, मुख्य आकर्षण है।

स्थान - भरतपुर, राजस्थान

दिल्ली से दूरी - 220 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - अक्टूहर से मार्च

14. कसरौली (Kesroli) - यहां के हरे-भरे व खूबसूरत लैंडस्केप (green landscape) और पहाड़ी किला (Hill Fort) बेहद खूबसूरत है। यहां का बौद्ध विहार (Buddhist Vihara) भी आसपास के लोगों में काफी प्रसिद्ध है। कसरौली हिल फोर्ट का निर्माण भगवान श्रीकृष्ण के वशंजों, यदुवंशी राजपूतों द्वारा 14वीं शताब्धी में कराया गया था। इसे अब हैरिटेज होटल में तब्दील कर दिया गया है। प्राणीविज्ञानी और पक्षी विज्ञानी (zoologists and ornithologists) के लिये भी ये जगह काफी प्रसिद्ध है। यहां खूबसूरत सूर्यास्त (Sunsets) भी देखा जा सकता है। किले के आसपास मौजूद सरसो के खेत इसकी खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं।

स्थान - अलवर, राजस्थान

दिल्ली से दूरी - 174 किमी

घूमने का बेहतरीन समय - नवंबर से फरवरी

एडवेंचर स्पोर्ट्स व पारंपरिक खेल भी मौजूद

इसके अलावा दिल्ली-एनसीआर में बहुत सी ऐसी जगहें भी हैं, जहां आप एंडवेंचर टूर का आनंद ले सकते हैं। इन टूर में आपको कई एडवेंचर गेम्स या ऐसे पांरपरिक खेलों का आनंद मिलेगा, जो अब देखने को भी नहीं मिलते। जैसे पैराग्लाइडिंग (Paragliding), एयर सफारी (Air Safari), मोटर स्पोर्ट्स (Motor Sports), गुल्ली-डंडा, कंचे, पतंगबाजी, रस्साकसी, खो-खो, कबड्डी, साइकिलिंग, रॉक क्लाइबिंग, चाक पर मिट्टी के बर्तन बनाना, पेड़ों पर चढ़ना, पेंट बॉल बैटल (Paint Ball Battle), पिकनिक आदि का मजा ले सकते हैं। यकीन मानिये ये खेल आपको बचपन के उन दिनों की सैर कराएंगे, जो आज की आपाधापी में बहुत पीछे छूट गए हैं। अगर आप संख्या में कम हैं तो भी चिंता की कोई बात नहीं, यहां आपको साथ देने के लिए दूसरे ग्रुप भी मिल जाएंगे।

दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

लाल किला, कुतुब मिनार, हुमायुं का मकबरा, इंडिया गेट, राजपथ, हौज खास, राष्ट्रीय प्राणी उद्यान, लोटस टेंपल, चांदनी चौक, अक्षरधाम मंदिर, जंतर-मंतर, राष्ट्रपति भवन, जामा मस्जिद, कनॉट प्लेस, अग्रसेन की बावली, कबाड़ से बना वेस्ट टू वंडर पार्क, इस्कॉन मंदिर, तीन मूर्ति भवन (नेहरू हाउस), लोधी गार्डन, खान मार्केट, मेहरौली पार्क, नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट, निजामुद्दीन दरगाह, गुरुद्वारा बंगला साहिब, राजघाट, प्रगति मैदान, तुगलकाबाद किला, सफदरजंग मकबरा, लाजपत नगर मार्केट, गार्डन ऑफ फाइव सेंसस (Garden of Five Senses), दिल्ली हाट, पुराना किला, पहाड़गंज, रेल म्युजियम, नेशनल म्युजियम, मुगल गार्डन, सरोजनी मार्केट, कुव्वत-अल-इस्लाम मस्जिद (Quwwat-ul-Islam Mosque), सुलभ इंटरनेशल म्युजियम ऑफ टॉयलेट्स, नेहरू मेमोरियल म्युजियम एंड लाइब्रेरी, छतरपुर मंदिर, क्राफ्ट म्युजियम, श्री दिगंबर जैन लाल मंदिर, फतेहपुरी मस्जिद, झंडेवालान हनुमान मंदिर, संस्कृति म्युजियम, चरखा म्युजियम, कैमरा म्युजियम, सिरी फोर्ट, इंटरनेशनल डॉल म्युजियम, गुरुद्वारा सीसगंज साहिब, नेशनल बाल भवन, नेशनल वॉर मेमोरियल, नेशनल रोज गार्डन, जापानी पार्क, सेंट्रल पार्क, जनपथ सिटी फॉरेस्ट, इंद्रप्रस्थ पार्क आदि।

यह भी पढ़ें :-

जम्‍मूू कश्‍मीर में बढ़ती सैलानियों की संख्‍या, केंद्र पर सवाल उठाने वालों पर है तमाचा
महज 80 रुपये में यहां आप भी बना सकते हैं अपना आशियाना, जानें कैसे है यह मुमकिन

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप