नई दिल्ली, जेएनएन। चुनावी सरगर्मी के बीच कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने बेरोजगारी से लेकर सरकारी कंपनियों को बर्बाद करने के आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोला। भाजपा के राष्ट्रवाद की चुनावी पिच पर सियासी बाउंसर फेंकते हुए सिद्धू ने कहा कि निजी उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाते हुए सरकारी कंपनियों को तहस-नहस कर देना राष्ट्रदोह है और पीएम मोदी इसके लिए जिम्मेदार हैं।

नोटबंदी से बढ़ी बेरोजगारी से लेकर अर्थव्यवस्था के आंकड़ों के साथ उन्होंने पीएम को चुनावी बहस की चुनौती देते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार की नाकामी छुपाने को पीएम मोदी बेतुके मुद्दे उठा रहे हैं। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान से पहले कांग्रेस ने मुद्दों पर मोदी सरकार की घेरेबंदी के लिए सिद्धू को मैदान में उतारा।

कांग्रेस ने सिद्धू को मैदान में उतारा
कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों पर सवाल उठाने वालों को राष्ट्र विरोधी तो देश के लिए शहीद होने वालों को भाजपा देशद्रोही करार देती है। मगर बीएसएनएल, ओएनजीसी, भेल, एनटीपीसी आदि कंपनियों को खस्ताहाली में पहुंचाना असल देशद्रोह है। सरकारी कंपनियों को बदहाली में पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री को सीधे जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा कि रिलांयस को 4जी स्पेक्ट्रम तत्काल दे दिया गया लेकिन बीएसएनएल को आज तक यह नहीं मिला है।

उद्योगपतियों के लिए दरियादिली दिखाने का आरोप लगाते हुए सिद्धू ने कहा कि मोदी जनता के पीएम नहीं अडानी और अंबानी के बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर बन गए हैं। अपने आरोपों के पक्ष में सिद्धू ने पांच साल में इन दोनों औद्योगिक समूहों को देश-विदेश में मिले डेढ़ दर्जन से अधिक कारोबारी ठेके का ब्योरा दिया।

सिद्धू ने लगाए केंद्र सरकार के गंभीर आरोप
नोटबंदी की वजह से 50 लाख लोगों के बेरोजगार होने के आंकड़े का हवाला देते हुए सिद्धू ने कहा कि एक ओर छोटे कारोबार बर्बाद हुए, दूसरी ओर पेटीएम जैसी कंपनियों के व्यारे-न्यारे हुए। कांग्रेस नेता ने नोटबंदी के एक दिन बाद पूरे देश में पेटीएम में प्रकाशित हुए विज्ञापन की प्रति दिखाते हुए कहा कि इसमें गुपचुप खेल हुआ है। अमीर और गरीब के बीच की खाई पांच साल में और बढ़ने का दावा करते हुए सिद्धू ने कहा कि एक फीसद लोगों के पास जितना धन है, वह देश के 50 फीसद गरीब लोगों के बराबर है।

पीएम मोदी पर सिद्धू ने की अभद्र टिप्पणी
अर्थव्यवस्था पर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए सिद्धू ने कहा कि जीएसटी व नोटबंदी से कारोबार और उद्योग चौपट हुआ है, इसी वजह से जीएसटी का संग्रह लक्ष्य से इस वर्ष एक लाख करोड़ कम हुआ है। जबकि पांच वर्ष में भारत पर कर्ज 27 लाख करोड रूपये से भी ज्यादा बढ़ा है जो आजादी के बाद सबसे अधिक है। इन आंकड़ों के सहारे सिद्धू ने पीएम पर तंज कसते हुए उन्हें निकम्मा करार दिया और कहा कि आप चौकीदार हैं तो जनता मालिक है। अब जनता ही तय करेगी कि उसे चौकीदार रखना है या नहीं।

सिद्धू पर भाजपा का पलटवार
नवजोत सिंह सिद्धू के आरोपों पर भाजपा ने भी करारा पलटवार किया है। प्रधानमंत्री मोदी पर सिद्धू के हमले को हास्यास्पद बताते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने तंज किया। उन्होंने कहा कि यह वही सिद्धू हैं जो भारत के प्रधानमंत्री को गाली देते हैं और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के लिए ताली बजाते हैं।

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि यह वही सिद्धू हैं जिनसे आचरण से कांग्रेस भी खुद को अलग कर रही थी, अब उसे गले लगा रही है। शाहनवाज ने कहा कि सच्चाई यह है कि सिद्धू को ठेका दिया जाता है, पहले किसी सीरियल में हंसने के ठेका था, अब सच्चे दिल से देश की सेवा करने वाले और राष्ट्र के हित के समर्पित प्रधानमंत्री का अपमान करने के लिए उतारा गया है। उन्होंने कहा कि इसका जवाब कांग्रेस को भी मिलेगा।

 दिल्ली-NCR की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Mangal Yadav