उन्नाव। उन्नाव जिले के गंगाघाट रेलवे स्टेशन पर आज उस समय बड़ा हादसा टल गया जब दिल्ली से लखनऊ जा रही शताब्दी एक्सप्रेस प्लेटफार्म के पास ट्रैक धंसने से अनियंत्रित होकर प्लेटफार्म किनारे दीवार से रगड़ते हुए निकल गई। हालांकि इससे ट्रेन पलटने से बच गई। बाद में स्टेशन अधीक्षक ने जानकारी पर इसे मरम्मत के लिए बंद कर दिया गया।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दोपहर 12 बजे के करीब शताब्दी एक्सप्रेस गंगाघाट रेलवे स्टेशन से गुजर रही थी तभी पोल संख्या 67/18 व 67/20 के बीच जोर से आवाज आई और ट्रेन की बोगी का एक हिस्सा बायीं ओर झुककर प्लेटफार्म की दीवार से रगड़ कर निकल गया। ट्रेन निकल जाने के बाद इसकी सूचना स्टेशन अधीक्षक छोटेलाल ने अधिकारियों को दी। घटना के बाद ट्रैक को बंद कर दिया गया और डाउन लाइन से ट्रेनें निकाली गईं। शताब्दी से पहले इसी ट्रैक से राप्ती सागर एक्सप्रेस भी गुजरी थी। बाद में ट्रैक की मरम्मत की गई।

रेल पथ निरीक्षक एसके तिवारी ने बताया कि जिस जगह ट्रैक धंसा है उस जगह प्लेटफार्म पर हैंडपंप लगा है। इसका पानी रेलवे ट्रैक पर जाता है। इससे स्टेशन अधीक्षक को अवगत भी कराया गया था। करीब दस किमी तक काशन भी लगा दिया था। इसके बाद भी इस ट्रैक पर ट्रेनों का आवागमन जारी था।

मगरवारा में टूटे ट्रैक से गुजरी शताब्दी गंगाघाट में दुर्घटना से बची शताब्दी एक्सप्रेस उसके एक स्टेशन आने वाले मगरवारा स्टेशन के आगे भी टूटे ट्रैक से गुजर गई। मगरवारा के पास ट्रैक टूटा होने के बाद भी कई ट्रेनें धड़धड़ाते गुजर गईं। आज रूटीन निरीक्षण पर रहे रेल पथ निरीक्षक की नजर पड़ी तो उन्होंने इसकी जानकारी अधिकारियों को दी। मरम्मत के बाद ट्रेनों का आवागमन शुरू किया गया। इस दौरान झांसी पैसेंजर, एलकेएम, बालामऊ, राप्ती सागर सहित मालगाड़ी को भी कानपुर से मगरवारा के बीच रोका गया।

जानें : कहां आकर थम जाती है राजधानी की भी रफ्तार

पढ़ें : कानपुर के लिए सेमी हाई स्पीड ट्रेन का होगा ट्रायल

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप