नई दिल्‍ली, जेएनएन। देश में नेशनल हाईवे का दायरा लगातार बढ़ रहा है। लंबाई बढ़ने के साथ ही कई स्थानों पर नेशनल हाईवे पर लेन की संख्या भी अधिक की जा रही है। एनसीआरबी की ताजा रिपोर्ट के आंकड़े बताते हैं कि देश में नेशनल हाईवे पर ही सबसे अधिक दुर्घटनाएं हो रही हैं। स्टेट हाईवे पर भी बड़ी संख्या में सड़क दुर्घटनाएं होती हैं।

  • 1.33 लाख किलोमीटर लंबाई है देश में नेशनल हाईवे की। कुल सड़क नेटवर्क 62 लाख किमी से अधिक है
  • 53,615 लोगों की मौत नेशनल हाईवे पर सड़क दुर्घटनाओं में बीते वर्ष हुई जो सड़क हादसों की कुल मृतक संख्या का 34.5 प्रतिशत है
  • 39,040 लोगों ने स्टेट हाईवे पर सड़क दुर्घटना में वर्ष 2021 में जान गंवाई। यह इस अवधि में देश में सड़क दुर्घटनाओं में हुई कुल मौतों (1,55,622) का 25.1 प्रतिशत है
  • 1,899 सड़क दुर्घटना के मामले देश में बने एक्सप्रेसवे पर वर्ष 2021 में दर्ज किए गए जिसमें 1,356 लोगों की मौत हुई
  • 62,967 लोगों की मृत्यु हाईवे और एक्सप्रेसवे के अतिरिक्त देश की अन्य सड़कों पर वर्ष 2021 में हुई। यह रोड एक्सीडेंट की कुल मृतक संख्या का 40.5 प्रतिशत है
  • 7,212 सड़क दुर्घटनाएं उत्तर प्रदेश में नेशनल हाईवे पर बीते वर्ष हुईं जो देश में सबसे अधिक संख्या है
  • 18,560 सड़क दुर्घटनाएं स्टेट हाईवे पर तमिलनाडु में वर्ष 2021 में हुईं। स्टेट हाईवे पर सबसे अधिक लोगों की मौत (5,891) उत्तर प्रदेश में हुई
  • 30.3% दुर्घटनाएं नेशनल हाईवे पर वर्ष 2021 में दर्ज की गईं जबकि देश के कुल सड़क मार्ग में नेशनल हाईवे की हिस्सेदारी केवल 2.1 प्रतिशत है
  • 23.9% सड़क दुर्घटनाएं वर्ष 2021 में स्टेट हाईवे पर हुईं जोकि कुल सड़क नेटवर्क का करीब तीन प्रतिशत है

Edited By: Sanjay Pokhriyal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट