नई दिल्ली, प्रेट्र। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 56 इंच के सीने में एक इंच की भी कमी नहीं आई है। इस नंबर पर किसी को कोई शक नहीं होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि अगर पाकिस्तान को अपने यहां से आतंकी गतिविधियों का सफाया करने की क्षमता नहीं है तो उसे भारत से मदद ले लेनी चाहिए।

टीवी शो आप की अदालत में रजत शर्मा के एक सवाल का जवाब देते हुए राजनाथ सिंह ने यह बात कही। उनसे पूछा गया था कि लोकसभा चुनाव के प्रचार अभियान में मोदी ने कहा था कि पाकिस्तान से निपटने के लिए 56 इंच के सीने की जरूरत होती है। इसके जवाब में राजनाथ ने चुटीले अंदाज में कहा, 'वह कम नहीं हुआ है। मैं गृह मंत्री हूं। मैं गोपनीय बातें जानता हूं। मेरे साथ आइबी भी है। वह घटा नहीं है। इस आंकड़े के बारे में कोई शक नहीं होना चाहिए। मैं सिर्फ इतना कह सकता हूं कि 56 इंच का सीना है।'

गृह मंत्री ने कहा कि वह पाकिस्तान को संदेश देना चाहते थे कि उसे अपनी जमीन से आतंकवाद का सफाया करना चाहिए। अगर पाकिस्तान को लगता है कि उसमें ऐसा करने की क्षमता नहीं है तो वह भारत से मदद ले सकता है। अगर वह चाहें तो ऐसा हो सकता है। वह इस बारे में विश्व के अन्य देशों से भी मदद ले सकते हैं।

सिंह ने कहा कि पिछले दो सालों में पाकिस्तान से घुसपैठ में 52 फीसद की कमी आई है। माओवादियों के हाथों मारे जाने वाले सुरक्षा बलों की संख्या में भी कमी आई है। पठानकोट में हुए आतंकी हमले पर उन्होंने कहा कि इस मामले में यह सरकार की रणनीति का ही असर है कि अमेरिका ने पाकिस्तान को इस हमले की जांच में सहयोग करने को कहा है।

उन्होंने कहा कि इशरत जहां मामले में कुछ कागज गायब हैं। ये वो कागज हैं जो गृह मंत्रालय की फाइलों में रहे होंगे लेकिन अब नदारद हैं। इस बारे में जल्द ही जांच कमेटी की रिपोर्ट मिल जाएगी। इससे पता चलेगा कि दोषी कौन है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक कारणों से इन फाइलों के पन्ने कांग्रेस के व्यक्ति ने बदलवा दिए थे।

जब उनसे पूछा गया कि एनआइए की टीम ने मालेगांव विस्फोट में प्रज्ञा ठाकुर को क्लीनचिट क्यों दी, तो उन्होंने कहा कि जब जांच की गई तो सच्चाई सामने आ गई। एनआइए को पूरी स्वायत्तता दी गई है। यहां तक कि वह चाहे तो उसे गृह मंत्रालय के पास फाइलें भेजने की भी जरूरत नहीं। वह उन फाइलों को सीधे कानून मंत्रालय के पास भेज सकता है। काले धन के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान यह वादा कभी नहीं किया गया था कि 15 लाख रुपये हरेक के बैंक खाते में डाल दिए जाएंगे। यह सिर्फ एक उदाहरण था और कुछ नहीं।

---

'पाकिस्तान में अपनी जमीन से आतंकी गतिविधियां मिटाने की क्षमता नहीं तो भारत से मदद ले।'

-राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री

संबंधित अन्य खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sachin Mishra