नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मोदी सरकार की विदेश नीति पर विशेष प्रस्ताव पारित किया जाएगा। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल के दौरान विदेशों में भारत की बढ़ी प्रतिष्ठा और विभिन्न देशों के साथ बेहतर संबंधों का उल्लेख होगा।

वहीं देश की आंतरिक राजनीतिक हालात पर केंद्रित दूसरे प्रस्ताव में मोदी सरकार की उपलब्धियों का बखान होगा। इसके अलावा विवादित भूमि अधिग्रहण विधेयक पर कार्यकारिणी में विशेष चर्चा होना तय माना जा रहा है।

कार्यकारिणी का एजेंडा तय करने के लिए गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। खुद अमित शाह ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। बैठक के बारे में बताते हुए पार्टी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि सभी प्रतिनिधियों ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता लगभग 10 करोड़ तक पहुंचाने के लिए अमित शाह के प्रयासों की सराहना की।

हुसैन ने कहा कि कुछ राज्यों में भाजपा की सदस्यता में तीन से सात गुना तक बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने फर्जी सदस्य बनाने के कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उन्हें भाजपा की बजाय अपनी पार्टी की चिंता करनी चाहिए।

शुक्रवार और शनिवार को होने जा रही कार्यकारिणी की बैठक में मोदी सरकार की एक साल की उपलब्धियां छाए रहने की उम्मीद है। बैठक के एजेंडे में चर्चा के लिए मोदी सरकार की सभी बड़ी योजनाओं को शामिल कर लिया है। इनमें गंगा सफाई और स्वच्छ भारत अभियान से लेकर भूमि अधिग्रहण विधेयक तक शामिल है।

भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ विपक्ष के दुष्प्रचार का जवाब देने के लिए एक प्रजेंटेशन भी दिया जाएगा। इसमें प्रतिनिधियों को बताया जाएगा कि किस तरह यह विधेयक किसानों का विरोधी नहीं है और ग्रामीण इलाकों के समेकित विकास के लिए जरूरी है।

कार्यकारिणी में छह अप्रैल को भाजपा का स्थापना दिवस, 14 अप्रैल को अंबेडकर जयंती, 26 मई को मोदी सरकार के एक साल पूरे होने और 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की तैयारियों पर भी चर्चा होगी।

पढ़ेंः आठ को हो सकता है मोदी कैबिनेट का विस्तार

पढ़ेंः नौ राज्यों को जल्द मिलेंगे नए राज्यपाल

Edited By: Gunateet Ojha