नई दिल्ली,एजेंसी। मौसम की जानकारी देने वाली ऑस्ट्रेलिया की सरकारी एजेंसी 'ब्यूरो ऑफ मेट्रोलॉजी' ने चेतावनी दी है कि इस साल अल नीनो प्रभाव की 70 फीसदी आशंका है। ऑस्ट्रेलिया के मौसम विभाग ने कहा है कि इस साल की दूसरी छमाही के आसपास अल नीनो प्रभाव का अनुमान है। आस्ट्रेलियाई एजेंसी का यह अनुमान भारत के लिए शुभ संकेत नहीं हैं, क्योंकि 1 जून के आसपास देश में मानसून सीजन का आगाज होता है। भारत में मानसून का सीजन जून से लेकर सितंबर तक चलता है। यानी यदि मौसम सामान्य रहता है तो 4 महीने जमकर बारिश होती है।

देश में आमतौर पर अगस्त से लेकर सितंबर तक सबसे ज्यादा (करीब 70 फीसदी) बारिश होती है। ब्यूरो ने अपने पिछले पूर्वानुमान में अल नीनो प्रभाव की 50 प्रतिशत आशंका जताई थी। हालांकि, मौसम की भविष्यवाणी करने वाली भारतीय एजेंसियों का कहना है कि मानसून की बारिश पर अल नीनो के असर की आशंका नहीं है।

देश के मौसम विभाग (आईएमडी) ने इस महीने अपने पूर्वानुमान में कहा था कि मई आते--आते अल नीनो की स्थितियां कमजोर प़़ड सकती हैं। इसके बाद अल नीनो और कमजोर होने का अनुमान है। मौसम की भविष्यवाणी करने वाली निजी एजेंसी स्काइमेट ने फरवरी में मॉनसून पर अपने शुरआती अनुमान में कहा था कि देश में इस साल सामान्य बारिश हो सकती है और अल नीनो की आशंका मॉनसून ब़़ढने के साथ कम हो सकती है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ravindra Pratap Sing