नई दिल्ली [ जेएनएन ] । देशभर के युवाओं के बीच लोकतंत्र को मजबूत करने और संसदीय प्रणाली की जानकारी देने के लिए दैनिक जागरण ने 2016 में 'जागरण यूथ पार्लियामेंट' की शुरूआत की थी। पिछले दो साल में 6 राज्यों के करीब बीस हजार से अधिक युवाओं ने इस कार्यक्रम में रुचि दिखाई थी, जिनमें से यूथ पार्लियामेंट के प्रतिनिधि के तौर पर अब तक एक हजार प्रतिनिधि चुने जा चुके हैं।

चुने हुए सदस्य भारतीय संसद की तरह ही मानसून, शीत और बजट सत्रों में विभिन्न विधेयकों और राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर चर्चा करते हैं। विधेयकों में संशोधन प्रस्तावित और पारित करते हैं। छह राज्यों के 12 शहरों में आयोजित होनेवाले जागरण यूथ पार्लियामेंट की अवधि लगभग एक साल होती है। इस बार हिसार को भी इसमें शामिल किया गया है।

अगर आप समझना चाहते हैं कि संसद कैसे काम करती है, कानून कैसे बनाए और लागू किए जाते हैं , सिस्टम कैसे काम करता है, जिन विषयों के बारे में आप सोचते रहते हैं उनके बारे में संविधान में क्या कहा गया है, नागरिकों के अधिकार और कर्तव्य क्या हैं, तो यह कार्यक्रम आप सभी युवाओं के लिए है।

'जागरण यूथ पार्लियामेंट' का संचालन स्ट्रैटेजिक पार्टनर टफहोप कंसलटेंसी करती है। विधायी कायरें में शोध के क्षेत्र में अग्रणी संस्था पी.आर.एस. इंडिया और चुनाव सुधारों के के लिए काम कर रही संस्था एडीआर इस कार्यक्रम के नालेज पार्टनर हैं।

- कैसे करें नॉमिनेशन इच्छुक युवा कार्यक्रम की वेबसाइट 222.djyp.co.in पर जा कर आवेदन कर सकते हैं। नॉमिनेशन/आवेदन की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2018 है।

- कौन कर सकता है नॉमिनेशन 18 से 25 आयु वर्ग के युवा भाग ले सकते हैं। आवेदक किसी राजनीतिक या धार्मिक संगठन के पंजीकृत सदस्य न हों।

Posted By: Ramesh Mishra