शिलांग, प्रेट्र। मेघालय के पूर्वी जयंतिया हिल्स स्थित अवैध कोयला खदान में एक और मजदूर का शव दिखाई दिया है। शव पूरी तरह गल चुका है। शव को बाहर निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं।

जिला उपायुक्त एफएम डोपथ ने बताया, 'नौसेना को खदान की तलहटी में तड़के तीन बजे शव दिखा। यह मुख्य शाफ्ट के नीचे से लगभग 280 फीट की दूरी पर था।' बता दें कि सुप्रीम कोर्ट बचाव अभियान की निगरानी कर रहा है और सोमवार को इस पर फिर से सुनवाई कर सकता है। खदान से निकाला गया पहला शव असम के चिरांग जिले के अमीर हुसैन का था। उसके शव को शनिवार सुबह परिवार के सदस्यों को सौंप दिया गया। नौसेना और एनडीआरएफ के संयुक्त अभियान में गुरुवार को हुसैन का शव खदान के शाफ्ट से बाहर निकाला गया था। शव को पहली बार 17 जनवरी को देखा गया था।

बता दें कि 13 दिसंबर को ल्येतिन नदी का पानी कोयला खदान में भर गया था, जिससे 15 लोग फंस गए थे। बचाव अभियान में एनडीआरएफ, नौसेना, ओडिशा फायर सर्विस और राज्य एजेंसियों के लगभग 200 बचाव कर्मी लगे हैं। खदान के मालिक कृप चलेट को 14 दिसंबर को गिरफ्तार कर लिया गया था। मेघालय सरकार ने फंसे खनिकों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये की अंतरिम राहत जारी की है।

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप