औरंगाबाद [प्रेट्र]। महाराष्ट्र में डाकू होने के शक में ग्रामीणों ने लोगों के एक समूह को घेरकर पीटना शुरू कर दिया। पिटाई में दो लोगों की मौत हो गई है जबकि सात घायल हुए हैं। घायलों में एक की हालत गंभीर है। घटना औरंगाबाद जिले के चांदगांव की है। सोशल मीडिया पर चल रहे झूठे संदेशों के चलते तेलंगाना और असम में भी इसी तरह की घटनाएं होने की जानकारी सामने आई है। इन दो घटनाओं में कुल चार लोगों के मारे जाने की सूचना है।

पुलिस के अनुसार सोशल मीडिया पर चल रहे एक झूठे संदेश के चलते औरंगाबाद इलाके में तनाव था। संदेश के अनुसार इलाके में डाकुओं का गिरोह आया हुआ था जो मौका देखकर वारदात कर रहा था। अनजान लोगों को देखकर ग्रामीणों में यह शक गहरा गया। इसके बाद आसपास के गांवों के डेढ़ हजार लोगों ने अनजान लोगों के इस समूह को घेर लिया और उनकी लाठी-डंडों से पिटाई शुरू कर दी।

पकड़े गए लोगों को एक परिसर में बंद करके पीटा गया। पिटाई में दो लोगों की मौत हो गई जबकि सात घायल हुए। बाद में पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घायलों को बचाया और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। मारे गए लोगों की पहचान भरत सोनावने और शिवाजी सोनावने के रूप में हुई है। ये लोग किसी काम के सिलसिले में औरंगाबाद आए थे। पुलिस ने 400 गांवों के 1,500 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

By Vikas Jangra