तिरुवनंतपुरम, एएनआइ। केरल उच्च न्यायालय ने लक्षद्वीप की कवरत्ती पुलिस को फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना द्वारा उनके खिलाफ देशद्रोह मामले में दायर अग्रिम जमानत याचिका पर बयान दर्ज करने के निर्देश दिया है। मामले पर अगली सुनवाई 17 जून को होगी।

बता दें कि सुल्ताना पर आरोप है कि उन्होंने एक मलयालम चैनल में बहस के दौरान केंद्र शासित प्रदेश लक्षदीप में कोरोना के प्रसार के बारे में झूठी खबर का प्रसार किया। भाजपा की लक्षद्वीप ईकाई अक्ष्यक्ष अब्दुल खादर द्वारा उनपर मामला दर्ज कराया गया। जिसके बाद आयशा सुल्ताना के खिलाफ पिछले दिनों लक्षद्वीप पुलिस ने देशद्रोह का मामला दर्ज किया था। हालांकि,भाजपा की लक्षद्वीप ईकाई अक्ष्यक्ष अब्दुल खादर द्वारा आयशा के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करवाया गया, लेकिन इस मुकदमे को लेकर भाजपा पार्टी के ही 15 सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था।

भाजपा नेता ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि सुल्ताना ने राष्ट्र विरोधी बयान दिया है, जिसमें उन्होंने केंद्र सरकार की देशभक्ति की छवि को धूमिल किया। इतना ही नहीं भाजपा नेता ने उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की थी। बता दें कि इससे पहले भी भाजपा ने फिल्म निर्माता के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए लक्षद्वीप में विरोध प्रदर्शन किया था। स्थानीय मॉडल और अभिनेत्री सुल्ताना ने कई मलयालम फिल्म निर्माताओं के साथ काम किया है।

जानें कौन हैं आयशा सुल्ताना

आयशा सुल्ताना लक्षद्वीप के चेटियाथ द्वीप पर रहती हैं। मॉडल, अभिनेत्री और फिल्म निर्माता होने के साथ ही वह सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं। आयशा ने मलयालम इंडस्ट्री के कई निर्देशकों के साथ काम किया हुआ है। आयशा कुछ मलयालम फिल्मों में बतौर एसोसिएट डायरेक्टर भी काम कर चुकी हैं। सोशल मीडिया पर भी आयशा काफी फेमस हैं। काफी संख्या में लोग उन्हे