नई दिल्ली। एजेंसी सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों के प्रेस कांफ्रेंस से उत्पन्न विवाद सुलझाने का प्रयास जारी हैं। गुरुवार को प्रधान न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा ने अपने खिलाफ आवाज उठाने वाले चारों जजों-- जे. चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी. लोकुर और कुरियन जोसेफ से दूसरे दौर की मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार, समस्या का तत्काल कोई समाधान तो नहीं निकला लेकिन कुछ प्रगति जरूर हुई है।

जस्टिस मिश्रा ने चारों वरिष्ठ जज द्वारा उठाए गए मुद्दों और उनके सुझावों पर विचार करने का आश्वासन दिया है। अब इन लोगों के बीच अगले दौर की बातचीत सोमवार को होगी। सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में सुप्रीम कोर्ट के कुछ अन्य जज भी मौजूद थे, जो इस समस्या का समाधान निकालने में लगे हुए हैं। इनमें जस्टिस एके सीकरी, एनवी रमना, यूयू ललित और डीवाई चंद्रचू़ड़ शामिल हैं। यह बातचीत लगभग 10-15 मिनट तक चली। इसके बाद साढ़े दस बजे सभी जज सुनवाई के लिए चले गए।

इस बीच, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के सूत्रों का कहना है कि चारों वरिष्ठ जज मामले आवंटित करने में रोस्टर सिस्टम लागू करने पर जोर दे रहे हैं। उल्लेखनीय है कि 12 जनवरी को चार वरिष्ठ जजों ने मीडिया के सामने प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। उन्होंने जजों को मामले आवंटित करने में भेदभाव समेत अन्य मुद्दे उठाए थे। 

मीडिया रिपोर्टिग पर रोक से सुप्रीम कोर्ट का इनकार 

मीडिया रिपोर्टिग पर रोक से इनकार सुप्रीम कोर्ट ने जजों से जुड़े विवाद की मीडिया में रिपोर्टिग पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। जस्टिस मिश्रा ने कहा कि वे यह मामला तभी देखेंगे, जब रजिस्ट्री इस याचिका को सुनवाई के लिए लगाएगा।

Edited By: Manoj Yadav