श्रीनगर, एएनआइ। जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय राजमार्ग 44 को शनिवार को दोनों ओर से यातायात के लिए खोल दिया गया है। नैश्री से रामसू के बीच कई स्थानों पर भूस्खलन और पत्थर गिरने के कारण इस राजमार्ग पर वाहनों के आवागमन निलंबित कर दिया गया था। चिंतित एजेंसियों ने राजमार्ग से बर्फ और मलबे को साफ कर दिया ताकि इसे दो तरफा यातायात के लिए उपयुक्त बनाया जा सके। ट्रैफिक पुलिस के सूत्रों के अनुसार, हल्के मोटर वाहनों को अब दोनों तरह से अनुमति दे दी गई है और श्रीनगर से जम्मू तक भारी मोटर वाहनों को अनुमति प्रदान कर दी है।

श्रीनगर में भारी बर्फबारी के चलते कई हाइवे जाम हो गए थे। भारी बर्फबारी के चलते कई पेड़ भी उखड़ गए थे। इतना ही नहीं जम्मू और श्रीनगर में संपर्क भी टूट गया था। श्रीनगर के कई इलाकों में टेलीफोन लाइनें भी बर्फबारी के कारण ठप हो गए। ट्रफिक विभाग ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर 6000 हजार से अधइक वाहन रोके हुए थे। मौसम साफ नहीं होने की वजह से भी हवाई सेवाएं प्रभावित हुई। 

मौसम साफ नहीं होने की वजह से भी हवाई सेवाएं प्रभावित हुई। बर्फबारी के चलके घाटी में सेब की फसल को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। वहीं पुलवामा में बर्फबारी हटाते वक्त एक आदमी की मौत हो गई थी। मृत व्यक्ति का नाम गुलाम कादिर बट है। जैसे ही बर्फबारी रूकी तभी से पीडब्ल्यूडी और नगर निगम कर्मचारियों ने बर्फ हटाने का काम शुरू कर दिया था। बर्फबारी के चलते बुधवार रात तक सात लोगों की मौत हो गई है। मरने वालों में जवान, बिजली विभाग और आम नागरिक शामिल हैं।  

Posted By: Ayushi Tyagi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप