नई दिल्‍ली [स्‍पेशल डेस्‍क]। गुजरात में भले ही चुनाव प्रचार का शोर थम गया है लेकिन पाकिस्‍तान में गुजरात का शोर अब सुनाई देने लगा है। आपको यह सुनकर भले ही हैरानी हो लेकिन यह सच है। हम आपको इसके पीछे की वजह भी बता देते हैं। दरअसल, चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्‍तान और कांग्रेस पर गुजरात चुनाव जीतने के लिए एक दूसरे की मदद करने का आरोप लगाया था। उन्‍होंने यह भी कहा था कि कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर पर हुई निजी बैठक में उनको लेकर साजिश रची गई और अगले दिन उन्‍हें नीच तक कहा गया। उन्‍होंने यहां तक कहा कि इस बैठक में पाकिस्‍तान के पूर्व मंत्री भी शामिल थे, लिहाजा पाकिस्‍तान के साथ मिलकर उन्‍हें गुजरात में हराने की साजिश तक रची जा रही है।

कड़ी नाराजगी जताई 

दूसरे चरण के चुनाव प्रचार के अंतिम दिन में जोर-शोर से उछाले गए इस मुद्दे पर पाकिस्‍तान की तरफ से कड़ी नाराजगी तक जताई गई थी। हालांकि बाद में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पाकिस्‍तान को यह कहते हुए नसीहत तक दे डाली थी कि वह भारत को लोकतंत्र की नसीहत न दे। लेकिन अब पहली बार इस मामले में उस शख्‍स ने अपना बयान दिया है जो अय्यर की पार्टी में शामिल थे और जिनको लेकर पीएम मोदी ने बयान भी दिया। इनका नाम खुर्शीद कसूरी जोकि पाकिस्‍तान के पूर्व विदेश मंत्री रह चुके हैं।

पीएम के आरोपों पर कसूरी ने जताया अफसोस

पाकिस्‍तान के एक न्‍यूज चैनल से इस बाबत पूछे गए सवाल के जवाब में कसूरी ने इस पूरे वाकये पर हैरानी जताते हुए यहां तक कहा कि यदि पीएम मोदी यह सोचते हैं कि गुजरात चुनाव में पाकिस्‍तान को लाकर वह जीत सकते हैं तो यह बेहद अफसोसनाक बात है। इस दौरान उन्‍होंने यह भी माना कि वह मणिशंकर अय्यर के घर पर हुए प्राइवेट डिनर में शामिल थे। इस डिनर में पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्‍टर मनमोहन सिंह, पूर्व उपराष्‍ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व सेनाध्‍यक्ष जनरल दीपक कपूर और चार पूर्व विदेश सचिव भी शामिल थे। पीएम मोदी द्वारा लगाए गए आरोपों पर उन्‍होंने यहां तक कहा कि यदि उनकी बात सच है तो क्‍या यह सब लोग भी इस साजिश का हिस्‍सा थे। निजी चैनल को दिए जवाब में कसूरी ने यह भी कहा है कि पीएम मोदी के इन आरोपों का कोई सिर-पैर नहीं है।

सिर्फ दोनों देशों के रिश्‍तों पर हुई थी चर्चा

इस चैनल पर उन्‍होंने माना कि वह कई ऐसे सेमिनार में शामिल हो चुके हैं जहां पर भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के चीफ भी मौजूद रहे हैं। कसूरी का कहना था कि उन्‍हें भारत में एक कार्यक्रम में शिरकत के लिए बुलाया गया था जिसमें भारत-पाक संबंधों पर चर्चा होनी थी। इसके बाद मणिशंकर अय्यर ने अपने यहां पर प्राइवेट डिनर रखा था। इस दौरान गुजरात से जुड़े किसी मसले पर चर्चा नहीं हुई। उनके मुताबिक इस दौरान दोनों देशों के रिश्‍ते और बीच के मुद्दों पर चर्चा हुई थी।

कल होगी गुजरात में दूसरे फेज की वोटिंग

कसूरी का बयान ऐसे समय में सामने आया है जब गुजरात में दूसरे चरण का प्रचार थम चुका है और गुरुवार को मतदान होना है। दूसरे चरण में खुद पीएम मोदी भी वोटिंग करने वाले हैं। इस बार के गुजरात चुनाव में खासा गहमा-गहमी दिखाई दी है। इससे पहले गुजरात चुनाव दूसरे राज्‍यों की ही तरह आम हुआ करता था, लेकिन इस बार यह आम से खास हो गया है। इसकी कुछ वजह हैं। इनमें से एक वजह तो ये ही है कि कांग्रेस गुजरात में भाजपा को हराकर पीएम मोदी को विफल करार देना चाहती है। यहां पर आपको यह भी बता दें कि कुछ जगहों पर भाजपा और कांग्रेस में कड़ी टक्‍कर देखी जा रही है। हालांकि भाजपा और कांग्रेस के जीत के दावों का सच 18 दिसंबर को सभी के सामने आ जाएगा। लेकिन भाजपा के लिए गुजरात में काफी कुछ दांव पर लगा है। यहां के परिणाम 2019 की भी पटकथा तैयार कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: जानें आतंकियों ने संसद पर हमले के लिए क्यों चुना था 13 दिसंबर 2001 का दिन

 

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस