नई दिल्ली, जेएनएन। शहरों की बेहतरी के लिए चलाए जा रहे Jagran.com के ‘माय सिटी माय प्राइड’ अभियान को इंटरनेशनल न्यूज मीडिया एसोसिएशन [इनमा] की ओर से ग्रुप टू में डिजिटल रीडरशिप और एंगेजमेंट बढ़ाने के लिए बेस्ट आइडिया का अवार्ड दिया गया है। जबकि इसी कैटेगरी में दूसरा स्थान स्वीडन के अफोब्लेडेट के अभियान ‘देयर प्लेनट’ को मिला है। तीसरे स्थान के लिए क्रोएशिया के 24साटा के अभियान ‘नो मैन्स लैंड’ को चुना गया है। उल्लेखनीय है कि जागरण प्रकाशन ने अन्य 10 कैटेगरियों में पुरस्कार जीते हैं।

पिछले साल जुलाई माह से लोगों की सहभागिता से दस शहरों में चलाए गए ‘माय सिटी माय प्राइड’ अभियान को जबरदस्त तरीके से जनसमर्थन हासिल हुआ। इस अभियान में लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इस अभियान के पहले चरण में लखनऊ, कानपुर, मेरठ, वाराणसी, पटना, देहरादून, रांची, इंदौर, रायपुर और लुधियाना शहर शामिल किए गए थे। इस अभियान का लक्ष्य स्वास्थ्य, शिक्षा, आधारभूत ढांचा, अर्थव्यवस्था और सुरक्षा जैसी बुनियादी सुविधाओं पर सुधार करना है, ताकि मिलजुलकर शहर को और बेहतर बनाया जा सके।

उल्लेखनीय है कि इनमा की ओर से न्यूयार्क में आयोजित कार्यक्रम में लगातार तीसरे साल दैनिक जागरण को 'दक्षिण एशिया का सर्वश्रेष्ठ अखबार' चुना गया है। देशभर में सात करोड़ से अधिक पाठक संख्या वाले भारत के नंबर एक अखबार दैनिक जागरण को, अंतरराष्ट्रीय न्यूज मीडिया एसोसिएशन ने उसके अभियानों के लिए इस साल 11 पुरस्कारों से सम्मानित किया है। जिसमें दो प्रथम पुरस्कार, दो द्वितीय पुरस्कार, तीन तृतीय पुरस्कार और तीन विशेष उल्लेख शामिल हैं।

इस बार के पुरस्कारों में संपादकीय एवं वीडियो कैंपेन 'बेटियों की डायरी' और कानपुर में प्रदूषण के खिलाफ अभियान 'जागो कानपुर' ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। वहीं 'यूथ पार्लियामेंट' और 'कैसिनो ग्रांडे' को द्वितीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। हरियाणा में प्रदूषण के खिलाफ व्यापक स्तर पर चलाए गए अभियान 'पराली नहीं जलाएंगे', वाराणसी में हुए 'काशी आनंद' और 'यूथ पार्लियामेंट' को तृतीय पुरस्कार के लिए चुना गया। इसके अलावा जागरण के तीन अन्य अभियान 'अमेजन आपके द्वार', 'संस्कारशाला' और 'बेटियों की डायरी' को विशेष उल्लेख प्राप्त हुआ। इन सब में सबसे खास पुरस्कार रहा 'बेस्ट इन साउथ एशिया अवार्ड' जो 'बेटियों की डायरी' संपादकीय अभियान को दिया गया।

अंतरराष्ट्रीय न्यूज मीडिया एसोसिएशन के इन पुरस्कारों के लिए दुनिया के 34 देशों की 165 मीडिया कंपनियों ने कुल 664 एंट्रीज भेजी थीं जिन्हें 15 देशों के 46 ज्यूरी सदस्यों द्वारा परखा गया। अंतरराष्ट्रीय न्यूज मीडिया एसोसिएशन वर्ष 1935 से मीडिया इंडस्ट्री में बेहतरीन काम को सम्मानित करने का उपक्रम कर रही है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Gaurav Tiwari