मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कोंडागांव (जेएनएन)। छत्तीसगढ़ के सुदूर नक्सल प्रभावित जिले कोंडागांव में एक बार फिर आटीबीपी के जवानों ने अपनी जांबाजी दिखाते हुए एक महिला की जान बचाई। क्षेत्र का हेडली गांव सड़क मार्ग से आज भी जिला मुख्यालय से कटा हुआ है। कुछ दिनों से जारी भारी बारिश के चलते यहां नदी नाले उफान पर हैं। ऐसे में इस गांव की रहने वाली शेवाती यादव की तबीयत अचानक बेहद खराब हो गई। आठ दिन पूर्व महिला को प्रसव हुआ था।

उसे तत्काल 40 किलोमीटर दूर स्थित जिला मुख्यालय के अस्पताल पहुंचाना था। बारिश के चलते सड़क से गांव का संपर्क कटा हुआ था, जिसके चलते आवागमन की कोई व्यवस्था नहीं थी। इस घटना की सूचना यहां स्थापित आईटीबीपी की 41वीं बटालियन के कमांडेंट सुरिंदर खत्री को लगी। थोड़ी देर में जवान सक्रिय हो गए और तय किया गया कि एक त्वरित बचाव अभियान के तहत महिला को किसी भी स्थिति में जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाया जाएगा।

कंपनी कमांडर दीपक भट्ट के नेतृत्व में अभियान शुरू हुआ। स्ट्रेचर पर महिला को सुरक्षा के साथ लिटाकर उसे कंधे में ढोते हुए जवानों ने सफर शुरू किया। रास्ते में कहीं कमर तक पानी तो कहीं, घुटनों तक कीचड़ पसरा था, जवान कहीं रुके नहीं। आखिरकार एक लंबे सफर के बाद शेवाती को सुरक्षित अस्पताल पहुंचाया गया। अब शेवाती की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

आईटीबीपी के जवानों ने अपने हौसले और सकारात्मक रवैये के साथ एक महिला की जान बचा ली। उनके इस काम की क्षेत्र में काफी तारीफ हो रही है। यह इस माह इस तरह का तीसरा अवसर है जब आईटीबीपी के जवानों ने अपने हौसले के साथ इस किसी की जान बचाई है।

Posted By: Srishti Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप