नई दिल्‍ली (एजेंसी)। पाकिस्तान एयरफोर्स के इंटरसेप्‍ट किए गए रेडियो संचार से भी इस बात की तस्‍दीक हो गई है कि 27 फरवरी को भारत पर हमला करने वाले पाकिस्‍तानी एफ-16 लड़ाकू विमानों में से एक अपने एयरबेस पर वापस नहीं लौटा पाया था। भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने पाकिस्तानी वायुसेना के एफ-16 विमान को गुलाम कश्‍मीर के सब्‍जकोट इलाके में सात से आठ किलोमीटर भीतर घुसकर मार गिराया था। भारतीय वायुसेना के सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। 

दरअसल, एक अमेरिका की एक पत्रिका ने अपनी रिपोर्ट में भारतीय मिग बाइसन जेट द्वारा पिछले फरवरी में एक पाकिस्तानी एफ-16 विमान को मार गिराने के दावे को गलत बताया है। पत्रिका ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से दावा किया है कि उसने इस्लामाबाद में एफ-16 युद्धक विमानों की गिनती की है जिसमें एक भी विमान कम नहीं पाया गया है। 

भारतीय वायुसेना के आधिकारिक सूत्र अमेरिकी पत्रिका की उक्‍त रिपोर्ट पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे। उन्‍होंने बताया कि पाकिस्‍तानी वायुसेना के इंटरसेप्‍ट किए गए रेडियो संचार से इस बात की पुष्टि हुई है कि भारतीय फाइटर पायलट अभिनंदन वर्तमान ने अपने मिग बाइसन जेट से एक एफ-16 को मार गिराया था। यह पाकिस्‍तानी विमान गुलाम कश्‍मीर के सब्ज़कोट इलाके में सात से आठ किलोमीटर भीतर मार गिराया गया था। 

गौरतलब है कि अमेरिका ने एफ-16 लड़ाकू विमान पूरे एशिया में केवल पाकिस्तान को ही दिया है। अमेरिका ने यह सौदा इस शर्त पर किया था कि वह इसका इस्तेमाल सिर्फ अपनी जमीन पर आतंकवाद के खात्मे के लिए ही करेगा। पाकिस्‍तान इन विमानों का इस्‍तेमाल किसी दूसरे देश के खिलाफ हमले में नहीं करेगा। बावजूद इसके पिछले 27 फरवरी को ये विमान भारतीय वायु क्षेत्र में घुस आए थे। 

उस समय भारतीय विमानों ने इनका पीछा करते हुए एक पाकिस्तानी एफ-16 विमान को मार गिराया था। पाकिस्‍तानी विमानों को जमींदोज करने की कोशिश में ही भारतीय वायुसेना का एक मिग बाइसन जेट गुलाम कश्‍मीर में क्रैश हो गया था। इस विमान को विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान उड़ा रहे थे। इसके बाद पाकिस्‍तानी सैनिकों ने अभिनंदन वर्तमान को पकड़ लिया था। हालांकि चौतरफा अंतरराष्‍ट्रीय दबाव के बाद पाकिस्‍तान को भारतीय पायलट अभिनंदन वर्तमान को वापस सौंपना पड़ा था। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप