श्रीहरिकोटा। इसरो ने आज पीएसएलवी-C29 को सफलतापूर्वक लॉन्च किया। श्रीहरिकोटा लॉन्चिंग पैड से सिंगापुर के 6 उपग्रहों को धरती की कक्षा में स्थापित किया जाएगा। इसमें सिंगापुर की तरफ से पहल अर्थ ऑब्जरवेटरी सैटेलाइट टेलिओस-1 शामिल है। यह पीएसएलवी का 32वां मिशन है।

विश्वसनीय पीएसएलवी की मदद से भारत अब तक 20 देशों के 51 सेटेलाइट अंतरिक्ष की कक्षा में भेज चुका है । इसका उपयोग समुद्री तटों की निगरानी एवं सीमा सुरक्षा के लिये किया जाएगा । यह उपग्रह पांच साल तक पृथ्वी की कक्षा में रहेगा इस उपग्रह को पृथ्वी से 550 किलोमीटर ऊपर वृत्ताकार कक्षा में स्थापित किया जाएगा।
TeLEOS-1 इस का वजन 400 किलोग्राम बताया जा रहा है जिसमें पांच माइक्रोसैटेलाइट और तीन नैनों सैटेलाइट शामिल हैं।
ये पहला सिंगापुर वाणिज्यिक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है। यह कम पृथ्वी की कक्षा में तैनात किया जाएगा और सुदूर संवेदन अनुप्रयोगों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

इस सैटेलाइट के परियोजना निदेशक सिंगापुर के राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (NUS) प्रोफेसर जोह चेयर जियांग ने कहा कि ये उपग्रह बहुत उच्च दर पर जानकारी देने में सक्षम होगा। यह चक्रवात, भूकंप,की जानकारी के लिए दक्षिण पूर्व एशियाई क्षेत्र में बहुत उपयोगी साबित होगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस