जम्मू, जेएनएन। पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ के एक कथित एजेंट को नरवाल इलाके से पकड़ा है। आरोप है कि वह जम्मू, सांबा और कठुआ में सुरक्षा बलों के शिविरों के अलावा जम्मू पठानकोट राष्ट्रीय राजमार्ग में पुलों और नालों की तस्वीरें और वीडियो आइएसआइ को सोशल मीडिया के जरिए भेजता था। आरोपित पंकज शर्मा सांबा के तरोर का रहने वाला है।

पुलिस पंकज शर्मा के सोशल मीडिया एकाउंट को पुलिस खंगाल रही है। जांच में पता चला है कि आरोपित पंकज तीन वर्षों से पाकिस्तान में फोटो भेज रहा था। इसके बदले उसके बैंक खाते में आइएसआइ के एजेंट सऊदी अरब से रुपये भेजते थे। राज्य में इंटरनेट सेवा बंद होने के बाद उसने बीते छह माह में उसने कोई जानकारी पाकिस्तान नहीं भेजी। आरोपित पंकज कुमार के साथियों पर भी नजर रखी जा रही है। वह नरवाल में फल व्यापारी के पास काम करता था।

पता चला है कि वह सुरक्षा बलों की इमारतों, शिविरों, पुलों व नालों के वीडि़यों को खींच कर अपने ई-मेल अकाउंट के ड्राफ्ट में सेव कर देता था। उसकी ई-मेल का पासवर्ड आइएसआइ के अधिकारियों के पास भी था। जो पाक में बैठ कर उसकी ई-मेल खोल कर तस्वीरों व वीडियो को निकाल लेते थे और उनका प्रयोग कर भारत के विरुद्ध आतंकी हमलों की साजिश रचने में करते थे।

सोशल साइट में दोस्ती कर आइएसआइ ने फंसाया

स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के एसएसपी संदीप मेहता का कहना है कि आइएसआइ के एजेंट जम्मू कश्मीर के युवाओं से फर्जी नाम व पते से दोस्ती करते हैं। बाद में उन्हें लालच देकर जासूसी करवाते है। उन्होंने युवाओं को सलाह दी है कि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर वह किसी भी अनजान व्यक्ति से दोस्ती ना करें। यदि कोई उन्हें अपने देश से जुड़ी जानकारी देने को कहता है तो उसकी शिकायत तुरंत साइबर पुलिस को करें। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस