मुंबई, प्रेट्र : शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपित इंद्राणी मुखर्जी ने अपनी जान को खतरा बताया है। इंद्राणी ने सोमवार को विशेष अदालत से कहा कि कोई जेल के अंदर उसे जान से मारने की कोशिश कर रहा है।

गौरतलब है कि भायखला जेल में ही तबीयत बिगड़ने के कारण इंद्राणी को दो बार अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। पहली बार अक्टूबर 2015 में और दोबारा इसी माह। पिछली 6 अप्रैल की रात जेल में बेहोशी की हालत में पाई गई थी। इसके बाद उसे जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

सीबीआइ कोर्ट में इंद्राणी ने कहा कि गत 6 अप्रैल को उसने व्रत रखा हुआ था और शाम को अदालत में पेशी के बाद जेल लौटने पर जेल में दी जाने वाली दाल से अपना व्रत तोड़ा था। दाल पीने के बाद उसकी हालत बिगड़ गई थी। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में इसकी जांच के आदेश दिए गए थे। जांच में ड्रग ओवरडोज की बात सामने आई थी। वह 24 अप्रैल 2012 को अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या करने के आरोप में जेल में बंद हैं। उनके पति और मीडिया व्यापारी पीटर मुखर्जी भी इसी मामले में जेल में बंद हैं।

बहरहाल, इंद्राणी की शिकायत पर अदालत ने न तो कोई टिप्पणी की और न ही कोई आदेश ही पारित किया। अदालत में आज मुखर्जी की पूर्व सेकेट्री काजल शर्मा की गवाही थी, जो पूरी हो गई। गवाही पूरी होते ही उसने अदालत को दोनों घटनाओं की जानकारी दी थी। इंद्राणी आइएनएक्स मीडिया केस के मनी लांड्रिंग मामले में भी आरोपी है।

Posted By: Sachin Bajpai