नई दिल्‍ली, एएनआइ। देश अभी कोरोना वायरस संक्रमण के डेल्‍टा वैरिएंट से आई दूसरी लहर से उबर ही रहा है कि डेल्‍टा प्‍लस वैरिएंट ने फिर चिंता बढ़ा दी है। हालांकि, अभी देशभर में डेल्‍टा प्‍लस वैरिएंट के बेहद कम मामले सामने आए हैं, लेकिन इसके बावजूद स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय सर्तक है। महाराष्‍ट्र समेत कई राज्‍यों को अलर्ट रहने की सलाह दी गई है। सरकारी सूत्र ने बताया कि भारत में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट के 40 मामले रिपोर्ट किए गए हैं। ज्य़ादातर मामले महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल और तमिलनाडु के हैं। ये अभी भी वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट है।

कर्नाटक के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉक्‍टर के सुधाकर ने बताया कि राज्‍य में कोरोना वायरस के डेल्‍टा प्‍लस वैरिएंट के 2 नए मामले अब तक सामने आए हैं। इनमें एक मैसूर और एक बेंगलुरु में पाया गया है। इसकी सूचना केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय को भी दे दी गई है।

सूत्र ने बताया कि भारत में डेल्टा प्लस कोविड वैरिएंट के 40 मामलों का पता चला है। इनमें महाराष्ट्र में 21, मध्य प्रदेश में छह, केरल और तमिलनाडु में तीन-तीन, कर्नाटक में दो और पंजाब, आंध्र प्रदेश और जम्मू में एक-एक केस मिला है।

बता दें कि डेल्टा प्लस’, डेल्टा वैरिएंट का विकसित रूप है। डेल्टा वैरिएंट पहली बार भारत में ही पाया गया था। देश में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान वायरस की गिरफ्त में आए ज़्यादातर लोग इसी वैरिएंट के शिकार हुए थे। अब वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि डेल्टा वैरिएंट ही विकसित होकर डेल्टा प्लस बन गया है।

अमेरिका-ब्रिटेन में डेल्‍टा वैरियंए से बढ़ी चिंता

व्हाइट हाउस के मुख्य चिकित्सा सलाहकार डॉ. एंथनी फाउची ने आगाह किया है कि कोरोना वायरस का बेहद संक्रामक स्वरूप डेल्टा, कोविड-19 महामारी का सफाया करने के अमेरिका के प्रयासों में मुश्किल खड़ी कर सकता है। फाउची ने कहा कि अमेरिका में सामने आने वाले कोविड-19 के नए मामलों में से 20 फीसदी से अधिक में संक्रमण की वजह डेल्टा स्वरूप है। दो हफ्ते पहले तक नए मामलों में से दस फीसदी में यह स्वरूप पाया गया था। वहीं ब्रिटेन में डेल्‍टा वैरियंट पूरी तरह से हावी हो चुका है और यहां सबसे पहले सामने आए अल्फा स्वरूप के मुकाबले अधिक फैल चुका है। यहां 90 फीसदी से अधिक नए मामलों की वजह डेल्टा स्वरूप है। इसने सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

Edited By: Tilakraj