नई दिल्ली([ब्यूरो)]। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में अफगानिस्तान के राजदूत की बेटी सिलसिला अलीखिल के दिनदहाड़े हुए अपहरण को भारत ने स्तब्धकारी घटना करार दिया है। साथ ही अपहरण की घटना से पाकिस्तान के इन्कार पर कहा कि अपने स्टैंडर्ड के हिसाब से अपहृत के बयान को खारिज करना उसका एक नया निम्न स्तर है।

अरिदम बागची ने कहा कि बेहद स्तब्धकारी घटना

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिदम बागची ने कहा कि यह निश्चित रूप से बेहद स्तब्धकारी घटना है। यह अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच का मामला है और आम तौर पर हम इस पर टिप्पणी नहीं करते। चूंकि पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री ने इसमें भारत को घसीटा है और मैं कहना चाहूंगा कि पाकिस्तान के अपने स्टैंडर्ड के हिसाब से अपहृत के बयान को खारिज करना एक नया निम्न स्तर है।

जानें- क्या बोले पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद

प्रेट्र के मुताबिक, पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग कर्मियों की सुरक्षा पर बागची ने कहा, 'मैं सुरक्षा के विशिष्ट उपायों में नहीं पड़ना चाहता।' पाकिस्तान के आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद ने मंगलवार को कहा था कि सिलसिला का अपहरण नहीं हुआ था। यहां तक कि उन्होंने इस घटना को भारत की बाहरी खुफिया एजेंसी से भी जोड़ने की कोशिश की थी।

भारत के बयान को पाकिस्तान ने किया खारिज

उधर, इस्लामाबाद में बागची के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पाकिस्तानी विदेश कार्यालय ने कहा कि वह भारत के अनावश्यक और अनुचित बयान को खारिज करता है। इस मामले में भारत को बोलने का कोई अधिकार नहीं है। साथ ही कहा कि भारत अन्य देशों के लिए मानकों पर उपदेश देने की स्थिति में नहीं है। उसने भारत से पाकिस्तान के खिलाफ अपने दुष्प्रचार अभियान से भी बचने को कहा है।