Move to Jagran APP

India Food Products: भारत के खाद्य उत्पादों के निर्यात का बढ़ा दायरा, सबसे बड़ा आयातक है ब्रिटेन

भारत के अन्न भंडार पर दूसरे देशों की निर्भरता लगातार बढ़ रही है। सबसे अधिक बासमती चावल प्रसंस्कृत सब्जियां एवं ताजे फल की मांग है। साथ ही मांस मोटे अनाज मक्का एवं मूंगफली का भी निर्यात किया जा रहा है। File Photo

By Jagran NewsEdited By: Devshanker ChovdharyPublished: Sat, 25 Mar 2023 08:32 PM (IST)Updated: Sat, 25 Mar 2023 08:32 PM (IST)
भारत के खाद्य उत्पादों के निर्यात का बढ़ा दायरा।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भारत के अन्न भंडार पर दूसरे देशों की निर्भरता लगातार बढ़ रही है। सबसे अधिक बासमती चावल, प्रसंस्कृत सब्जियां एवं ताजे फल की मांग है। साथ ही मांस, मोटे अनाज, मक्का एवं मूंगफली का भी निर्यात किया जा रहा है। कृषि एवं प्रसंस्करण खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) ने चालू वित्तीय वर्ष में तीन हजार करोड़ डालर मूल्य के खाद्य पदार्थों के निर्यात का लक्ष्य रखा है, जो लगभग पूरा होने जा रहा है।

150 से अधिक देशों में भारतीय खाद्य पदार्थों का निर्यात

अभी डेढ़ सौ से अधिक देशों में भारत के खाद्य पदार्थों का निर्यात किया जा रहा है। पिछले सप्ताह दिल्ली में मिलेट सम्मेलन के बाद से मोटे अनाजों से बने उत्पादों की मांग में तेजी आई है। एपीडा ने पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान ढाई हजार करोड़ डालर से ज्यादा मूल्य के खाद्य पदार्थों का निर्यात किया था।

इसके पहले एपीडा ने कभी इतने बड़े पैमाने पर खाद्य पदार्थों का निर्यात नहीं किया था। भारतीय खाद्य पदार्थों के विदेश में कद्र से उत्साहित एपीडा ने वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए तीन हजार करोड़ डॉलर मूल्य के निर्यात का लक्ष्य रखा है, जिसे पूरा हो जाने की संभावना है। भारतीय खाद्य पदार्थों का बड़ा आयातक ब्रिटेन है।

कई तरह के खाद्य पदार्थ सूची में शामिल

एपीडा ने ब्रिटेन को इस वित्तीय वर्ष में लगभग 13 हजार टन अंगूर, चार हजार टन आम, पांच हजार टन प्याज एवं ढाई हजार टन पोषक अनाज निर्यात किया है। सबसे ज्यादा 13.10 हजार टन बासमती चावल का निर्यात किया गया है। पोषक अनाजों के निर्यात को बढ़ावा देने एवं भारतीय उत्पादकों को विश्व बाजार में पैठ बढ़ाने के लिए पिछले सप्ताह ही नई दिल्ली में आयोजित पोषक अनाज सम्मेलन में अमेरिका, कुवैत, जर्मनी, वियतनाम, जापान, यूएई, कीनिया, मालावी, भूटान, इटली एवं मलेशिया जैसे देशों से लगभग सौ से ज्यादा खरीदारों ने भाग लिया।

हाल में एपीडा ने लंदन में मोटे अनाजों के विभिन्न उत्पादों को प्रदर्शित किया। विदेश में भारत के जीआई टैग वाले अल्फांसो आम, अंगूर के बागों में बनी वाईन और मोटे अनाज की मांग बढ़ रही है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.