नई दिल्ली। एयर होस्टेस गीतिका शर्मा आत्महत्या मामले में आरोपी गोपाल कांडा निर्दलीय विधायक है जिसने पिछले डेढ़ दशक में जमकर दौलत कमाई और हरियाणा की हुड्डा सरकार में गृहराज्य मंत्री बना। सिरसा में गोपाल कांडा के पास आलीशान महलनुमा बंगला जिसके अहाते की दीवारें जैसे किसी किले की हों। करीब पांच एकड़ में फैले इस आलीशान बंगले को बनाने में लगभग 100 करोड़ रुपये का खर्च किया गया।

पढ़ें: गीतिका सुसाइड केस से जुड़ी खबरें एक साथ

नब्बे के दशक में जूते की एक दुकान से कारोबार की शुरुआत करने वाला गोपाल कांडा 2008 तक हरियाणा के सबसे अमीर कारोबारियों में से एक बन गया। उसकी किस्मत तब चमकी जब उसने जमीन-जायदाद में पैसा लगाया। कांडा ने सुपरसोनिक नाम से एक सॉफ्टवेयर कंपनी भी गुड़गांव में शुरू की और एमडीएलआर एयरलाइन भी लांच की। सिरसा में उसका एमडीएलआर इंटरनेशनल स्कूल व एक स्थानीय न्यूज चैनल भी हैं। जूते और एयरलाइंस का कारोबार वो अब बंद कर चुका है।

2009 में गोपाल कांडा राजनीति में आया। पहले वह इंडियन नेशनल लोकदल के ओमप्रकाश चौटाला का करीबी था, बाद में भूपिंदर सिंह हुड्डा के संपर्क में आया।

पिछले विधानसभा चुनाव में गोपाल कांडा ने सिरसा से निर्दलीय के तौर पर चुनाव जीता। चुनाव से पहले अपने एफिडेविट में कांडा ने अपनी संपत्ति 63.5 करोड़ रुपये बताई थी। यही नहीं यह भी माना था कि उस पर दस केस भी चल रहे हैं जिनमें से नौ चेक बाउंस होने के हैं।

नौ मई को गीतिका आत्महत्या मामले में कांडा पर आरोप तय होना है। केस में कहा गया है कि कांडा ने गीतिका के लिए ऐसी परिस्थिति पैदा कर दी कि उसे आत्महत्या करने पर मजबूर होना पड़ा। गीतिका ने कांडा की विमानन कंपनी एमडीएलआर में एयर होस्टेट से लेकर निदेशक तक सफर तय किया था।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप