छतरपुर, राज्‍य ब्‍यूरो। आधुनिकता और आस्‍था का सामंजस्‍य और तालमेल कैसे हो, इसे लेकर सवाल होते रहते हैं, लेकिन कुछ लोग आस्‍था को चोट पहुंचाने को ही आधुनिकता मान लेते हैं। ऐसा ही मध्य प्रदेश के छतरपुर में हुआ। यहां के जानराय टौरिया मंदिर के गेट पर 19 वर्षीय युवती ने अपने मोबाइल से डांस वीडियो शूट किया। डांस करने के दौरान युवती ने चप्पल पहन रखी थी। युवती ने वीडियो को इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। वीडियो वायरल होते ही बवाल शुरू हो गया। बजरंग दल सहित कई संगठनों और जानराय टौरिया मंदिर के महंत ने वीडियो शूट करने वाली उस युवती के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए विरोध शुरू कर दिया है।

जंगल, पहाड़ों व मैदानों में वीडियो शूट कर शेयर करती है युवती

इससे पहले इंदौर के एक चौराहे पर ट्रैफिक को रोककर श्रेया कालरा नाम की एक मॉडल के डांस करने पर भी बवाल हुआ था, अब छतरपुर में आरती साहू के डांस पर विवाद गहराने लगा है। छतरपुर के महाराजा कालेज से बीए कर रही आरती काफी समय से जंगल, पहाड़ों व मैदानों में वीडियो शूट कर अपने यूट्यूब और इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर करती रहती है। यूट्यूब पर उसके 25 लाख से अधिक फालोअर्स भी हैं।

बजरंग दल के नेता की शिकायत पर केस दर्ज

लोगों में आरोप पर आरती का कहना है कि उसके डांस में किसी प्रकार की फूहड़ता नहीं है। उसने पूरी संस्‍कारों के साथ फुल ड्रेस में नृत्य में किया। उसने कहा कि जब उसे पता चला कि डांस से कुछ लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची तो उसने तुरंत वीडियो को डिलीट करके माफी मांग ली। पुलिस का कहना है कि इस संबंध में बजरंग दल जिला संयोजक सुरेंद्र शिवहरे की शिकायत पर सिटी कोतवाली में नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

इस बारे में बजरंग दल के विभाग सह संयोजक सौरभ खरे का कहना है कि हमारा संगठन हिंदू संस्कृति को बदनाम करने वाले लोगों का विरोध करता है। महंत भगवान दास का कहना है कि मंदिर में ऐसा वीडियो बनाना गलत है। धार्मिक स्थलों पर इस तरह के डांस करने वालों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

Edited By: Arun Kumar Singh