मुंबई (जेएनएन)। मुंबई के एल्फिंस्टन हादसे के बाद से ही महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) ने अपने पार्टी स्टाइल में स्टेशनों से हॉकरों को हटाने का जिम्मा ले लिया है। इस क्रम में कई बार उनकी हॉकरों से झड़प भी हो चुकी है। बताया जाता है कि बीते रविवार को विख्रोली में हॉकरों को हटाने का काम कर रहे मनसे कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया जिसके बाद चार मनसे कार्यकर्ता घायल हो गए। इस घटना के बाद पार्टी प्रमुख राज ठाकरे ने अपने कार्यकर्ताओं पर जमकर नाराजगी व्यक्त की है।

सोमवार को शिवाजी पार्क रेसीडेंस स्थित कृष्णा कुंज में बैठक आयोजित कर पार्टी प्रमुख ठाकरे ने अपने जोनल ऑफिस के कार्यकर्ताओं को धमकी देते हुए कहा कि, "अगर आप मनसे के नेता हैं तो आपके साथ ऐसा नहीं होना चाहिए। अगर आप ऐसे ही बार-बार पिटेंगे तो अपने पद से हाथ धोना पड़ेगा। उन्होंने आगे कहा कि पार्टी कार्यकर्ता ऐसा होना चाहिए जो दूसरों को पीटते हैं ना कि खुद पिटते हैं।" 

उन्होंने दहाड़ते हुए चेतावनी देकर कहा कि "अगली बार जब आप एंटी-हॉकर अभियान पर जाते हैं तो पूरी तैयारी के साथ जायें। विख्रोली की घटना दोबारा नहीं होनी चाहिए। जब हम खुद की सुरक्षा नहीं कर सकते हैं तो दूसरों को कैसे रख सकते हैं।" 

बताया जाता है कि रविवार की रात विख्रोली में मनसे कार्यकर्ताओं ने हॉकरों को उनके स्टॉल्स पर मराठी में साइन बोर्ड और होर्डिंग लगाने की बात की थी। जिसके बाद मामला उग्र होने पर मनसे कार्यकर्ता घायल हो गए। घटना में चार मनसे कार्यकर्ता और दो कांग्रेस के सदस्यों को मामले में गिरफ्तार किया गया।

पार्टी पर पहला हमला पिछले महीने मलाड़ में हुआ था जब हॉकर्स का एक समूह मनसे के जोनल हेड सुशांत मालवाड़े पर हमला किया था। जानकारी के मुताबिक, सुशांत पर लोहे के रॉड से हमला किया गया था जिसके बाद उन्हें गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती किया गया था।

यह भी पढ़ें : निरुपम की सभा में मनसे कार्यकर्ताओं की नारेबाजी

Posted By: Srishti Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप