Move to Jagran APP

छत्तीसगढ़ में एक गांव से 10 नक्सली करेंगे समर्पण तो खेती के लिए मिलेगा ट्रैक्टर

जिले में नक्सलियों को मुख्यधारा से जोड़ने के लिए पुलिस लगातार पहल कर रही है। इन दिनों चलाए जा रहे - घर वापस आइए अभियान - का सुपरिणाम भी मिल रहा है।

By Bhupendra SinghEdited By: Published: Sat, 11 Jul 2020 09:18 PM (IST)Updated: Sat, 11 Jul 2020 09:18 PM (IST)
छत्तीसगढ़ में एक गांव से 10 नक्सली करेंगे समर्पण तो खेती के लिए मिलेगा ट्रैक्टर

योगेंद्र ठाकुर, दंतेवाड़ा। एक गांव के 10 या इससे अधिक नक्सलियों के आत्मसमर्पण पर खेती के लिए ट्रैक्टर व अन्य उपकरणों की सहायता दी जाएगी। यह ट्रैक्टर नजदीकी थाने या कैंप में रखा जाएगा, जो आत्मसमर्पित नक्सलियों को मामूली किराये पर उपलब्ध कराया जाएगा। गांव के अन्य ग्रामीणों को भी नक्सलियों से थोड़े अधिक दर पर ट्रैक्टर का उपयोग करने की सुविधा मिलेगी। आत्मसमर्पित नक्सलियों के सुझाव पर पुलिस और प्रशासन ने मिलकर इस योजना को अंतिम रूप दिया। जिले में नक्सलियों को मुख्यधारा से जोड़ने के लिए पुलिस लगातार पहल कर रही है।

loksabha election banner

आत्मसमर्पित नक्सलियों ने खेती के लिए बताई थी ट्रैक्टर की जरूरत

इन दिनों चलाए जा रहे - घर वापस आइए अभियान - का सुपरिणाम भी मिल रहा है पिछले दिनों बड़ेगुडरा पुलिस कैंप में चार इनामी सहित 18 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया था। इस दौरान उन्होंने बताया कि उनके पास खेती के लिए पर्याप्त जमीन है, लेकिन संसाधन और पूंजी का अभाव है। उन्होंने अपने गांव के लिए तीन ट्रैक्टर की मांग की थी। मलांगिर एरिया कमेटी के सक्रिय इनामी नक्सली दंपति ने भी आत्मसमर्पण के बाद एसपी और कलेक्टर से खेती के लिए ट्रैक्टर की मांग की थी।

ताकि मुख्यधारा में लौटने वाले नक्सलियों का दोबारा मोहभंग ना हो

समर्पित नक्सली प्रकाश करटामी ने बताया कि उसके पास 10 एकड़ से अधिक जमीन है, लेकिन ट्रैक्टर नहीं होने के कारण सही तरीके से खेती नहीं कर पा रहा है। पुलिस और जिला प्रशासन इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए योजना तैयार की है, ताकि मुख्यधारा में लौटने वाले नक्सलियों का दोबारा मोहभंग ना हो। वे खेती के काम में इस तरह प्रोत्साहित हों कि दूसरी ओर उनका ध्यान ही ना जाए।

आत्मसमर्पित नक्सली खेती करेंगे तो आमदनी के लिए गलत रास्ता नहीं अपनाएंगे

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि आत्मसमर्पित नक्सली गांव में खेती करेंगे तो जीवन निर्वहन की चिंता नहीं रहेगी। इससे मन शांत रहेगा। आमदनी के लिए गलत रास्ता नहीं अपनाएंगे और अच्छा सोचेंगे।

आत्मसमर्पण के बाद जो नक्सली गांव में रहकर खेती करना चाहते हैं, उन्हें मामूली टोकन मनी पर ट्रैक्टर व कृषि उपकरण उपलब्ध कराया जाएगा। शर्त यह है कि उस गांव या पंचायत में कम से कम 10 समर्पित नक्सली हों। ट्रैक्टर पंचायत या स्वसहायता समूह के सुपुर्द रहेगा, जिसे रात में नजदीकी कैंप या थाने में रखा जाएगा। सामान्य ग्रामीणों को न्यूनतम शुल्क पर ट्रैक्टर उपलब्ध कराया जाएगा - डॉ. अभिषेक पल्लव, एसपी, दंतेवाड़ा।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.