जयपुर। राजस्थान के बाडमेर स्थित बालोतरा तहसील क्षेत्र में मंगलवार की सुबह गुब्बारे के आकार की संदिग्ध वस्तु को भारतीय वायुसेना के सुखोई-30 विमान ने सटीक निशाना लगाकर मार गिराया। इस दौरान तेज धमाका भी हुआ जिसे लगभग बीस किलोमीटर दूर तक सुना गया। धमाका इतना तेज था कि एक दर्जन घरों की दीवारों में दरारें भी आ गईं। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

वहीं दूसरी ओर स्थानीय लोगों का कहना है कि आसमान में उड़ते हुए लड़ाकू विमान से बम गिराए गए। जहां बम गिरे हैं, वहां गह्ये हो गए हैं। राजस्थान सीमा क्षेत्र के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष ओझा के अनुसार, यह विस्फोट किस तरह का था, इसकी जानकारी नहीं है। वायुसेना की ओर से पुष्टि होने के बाद ही इस बारे में कुछ कहा जा सकेगा।

जबकि वायुसेना के अधिकारियों का कहना है कि गणतंत्र दिवस के कारण यह उड़ान निषिद्ध क्षेत्र था। संभव है कि कोई अभ्यास चल रहा हो और इस दौरान विस्फोटक गिर गए हों। स्थानीय थाने के पुलिस अधिकारी गणेश राम ने बताया कि पूरी जानकारी सेना को दे दी गई है लेकिन अभी यह नहीं कहा जा सकता कि गिरने वाला विस्फोटक बम था या कोई अन्य वस्तु।

कहीं सोनिक बूम तो नहीं
ऐसी भी संभावना जताई जा रही है कि लड़ाकू विमान के सोनिक बूम की वजह से घरों में ये दरारें पड़ी हों। लड़ाकू विमान जब ध्वनि की रफ्तार पार करता है तो उस समय पैदा हुए तीव्र कंपन और आवाज को सोनिक बूम के नाम से जाना जाता है। ये आवाज आसमान में हुए धमाके जैसी प्रतीत होती है। मौके पर पुलिस को त्रिकोणनुमा धातु के कुछ टुकड़े मिले, लेकिन यह कोई बम या विस्फोटक पदार्थ नहीं है।

पढ़ेंः फाइटर प्लेन से गिरे बम, दूर तक सुनाई दी धमाके की आवाज

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021